class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

म्यांमार में संविधान केचच मसौदे केचच पक्ष में जबरन मतदान

म्यांमार में सेना द्वारा तैयार संविधान के मसौदे के लिए 10 मई को होने वाले जनमत संग्रह से कई दिन पहले ही सैंकडों सरकारी कर्मचारियों से उसके पक्ष में जबरन मतदान कराया जा रहा है। यह जानकारी कुछ कर्मचारियों ने दी है।ड्ढr ड्ढr प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक गत बुधवार को हुई ऐसी ही एक घटना में बिजली ऊर्जा मंत्रालय के करीब 700 कर्मचारियों से मतपत्रों पर जबरन टिक मार्क लगवाए गए। उन्होंने बताया कि कुछ लोग इससे नाराज हो रहे थे लेकिन कोई कुछ नहीं कर सका। एक कर्मचारी ने बताया कि मतदान करवा रहे अधिकारियों ने कहा कि जो इस मसौदे के खिलाफ मतदान करना चाहते हैं वे इस्तीफे सौंप दें।ड्ढr नेफाइडा में भी सरकारी मंत्रालयों से लोगों से जनमत संग्रह से पूर्व ही संविधान के मसौदे के पक्ष में मतदान कराए जाने की खबरे मिली हैं। एक अधिकारी ने रायटर को बताया कि मंत्रालयों के कर्मचारियों से यह भी सुनिश्चित करने को कहा जा रहा है कि उनके परिवार के सदस्य भी इस मसौदे के पक्ष में ही मतदान करें। अधिकारी ने बताया कि वह बहुत हताश हैं लेकिन कर कुछ नहीं सकते।ड्ढr ड्ढr इस बीच विपक्षी नेशनल लीग फॉर डेमोक्रेसी इस मसौदे को पहले ही खारिज कर चुकी है क्योंकि इसमें सेना को संसद में एक चौथाई सीटे. महत्वपूर्ण मंत्रालयों पर नियंत्रण और इच्छानुसार संविधान को स्थगित करने का प्रावधान किया गया है। अभी कल ही अमरीकी राष्ट्रपति जार्ज डब्ल्यू बुश ने आश्ांका जाहिर की थी कि म्यांमार में चुनाव स्वतंत्र निष्पक्ष या विश्वसनीय नहीं होंगे और उन्होंने सैनिक सरकार पर दबाव बनाने के लिए म्यांमार की कंपनियों पर नए प्रतिबंध थोप दिए थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: म्यांमार में संविधान केचच मसौदे केचच पक्ष में जबरन मतदान