DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नीतीश ने शरद को बगावत के बारे में दी सफाई

बिहार में मंत्रिमंडल के पहले विस्तार के बाद हटाए गए मंत्रियों की बगावत का सामना कर रहे राय के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शुक्रवार को नई दिल्ली में पार्टी के अध्यक्ष शरद यादव से मुलाकात कर अपनी सफाई पेश की। जनता दल (यूनाइटेड) के आधिकारिक सूत्रों के अनुसार कुमार ने शुक्रवार सुबह शरद यादव के निवास पर उनके साथ करीब दो घंटे तक राय में पिछले दो सप्ताह से चल रही बगावत के बारे में पूरी स्थिति रखी। उन्होंने बताया कि भाजपा के मंत्रियों को उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी की सहमति से हटाया गया था और अपनी पार्टी के मंत्रियों को नई जिम्मेदारियां देने के लिए हटाया गया था। गौरतलब है कि मंत्रिमंडल के पहले विस्तार के बाद कुमार ने भाजपा के दो तथा अपनी पार्टी के आठ मंत्रियों का पत्ता साफ कर दिया था जिसके कारण भाजपा और जद (यू) में बगावत फूट पड़ी। जद (यू) के हटाए गए भवन निर्माण मंत्री मोनाजिर हसन और परिवहन मंत्री अजीत कुमार ने बाद में पार्टी के उपाध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया। हसन जब अखबारों में खुलकर बयान देने लगे तो पार्टी नेतृत्व ने उन्हें दिल्ली बुलाया। हसन गुरुवार को दिल्ली पहुंचे, पर वह अजमेर चले गए जहां से लौटकर वह शुक्रवार सुबह दिल्ली आए। हसन ने अभी तक शरद यादव से मिलकर अपनी स्थिति स्पष्ट नहीं की है, लेकिन मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने यादव को बताया कि किन स्थितियों में उन्हें अपने मंत्रिमंडल के दस मंत्रियों को हटाया। पार्टी सूत्रों का कहना है कि पार्टी नेतृत्व हसन के रवैए से काफी नाराज है और उनकी गतिविधियों को अनुशासनहीनता मानता है। सूत्रों का कहना है कि हसन को कोई असंतोष है तो उसे अपनी बात पार्टी नेतृत्व के सामने रखी चाहिए। समझा जाता है कि हसन ने अपना रवैया नहीं बदला तो उन्हें उपेन्द्र कुशवाहा की तरह बाहर का रास्ता भी दिखाया जा सकता है। जद (यू) के नेतागण शुरू में तो यह कहते रहे कि उनकी पार्टी में कोई असंतोष नहीं है। बगावत के स्वर केवल भारतीय जनता पार्टी में हैं, लेकिन जद (यू) के भीतर का असंतोष अब सामने दिखने लगा है। जद (यू) विधायक पूनम देवी के बयान से यह और स्पष्ट हो गया है कि मंत्रिमंडल विस्तार के बाद पार्टी में दो धड़े बन गए हैं। इनमें से एक मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के फैसले को सही मानता है, तो दूसरा कुमार के निर्णय को सही नहीं मानता है। नीतीश कुमार के दिल्ली प्रवास के दौरान जब पत्रकारों ने उनसे संपर्क करने की कोशिश की तो इस बात की पूरी गोपनीयता बरती गई कि वह कहां ठहरे हैं। कुमार शुक्रवार सुबह 8.30 बजे ही यादव के घर चले गए और दो घंटे तक विचार विमर्श करने के बाद वापस चले गए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: नीतीश ने शरद को बगावत के बारे में दी सफाई