अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

खफा भाजपा विधायकों ने केन्द्रीय नेताओं तक अपनी बात पहुंचाई

मंत्रिमंडल विस्तार के बाद से लगातार खफा चल रहे भाजपा विधायकों ने दिल्ली में पिछले दो दिनों तक केन्द्रीय नेताओं तक जमकर ‘अपनी बात’ पहुंचाई। दो दिनों तक बिहार के इन विधायकों ने दिल्ली का राजनीतिक तापमान काफी बढ़ाए रखा। यही नहीं इनका हर मृूवमेंट केन्द्रीय नेतृत्व की भी परशानी बढ़ाता रहा। विधायक मामले को किसी सूरत में ‘ठंडा’ होने देना नहीं चाहते। पिछले एक पखवार से आर-पार की लड़ाई के मूड में आए इन विधायकों ने केन्द्रीय नेतृत्व से महाराष्ट्र की तर्ज पर तत्काल निदान की अपेक्षा की है। उधर बिहार संकट को लगातार गहराता देख बिहार के पूर्व संगठन महामंत्री व पूवरेत्तर के प्रभारी हरन्द्र प्रताप को दिल्ली तलब किया गया है। बताया जाता है कि बिहार भाजपा की अंदरुनी राजनीति में श्री प्रताप की गहरी पैठ है और वे संकट के मद्देनजर ‘महत्वपूर्ण राय’ दे सकते हैं। पिछले लंबे समय से वे भी ‘उपेक्षित’ रहे हैं।ड्ढr ड्ढr गुरुवार को सूबे के 22 भाजपा विधायक राष्ट्रीय अध्यक्ष राजनाथ सिंह के अलावा मुरली मनोहर जोशी और अरुण जेटली से मिले जबकि शुक्रवार को उन्होंने भैरो सिंह शेखावत, यशवंत सिंह, यशवंत सिन्हा के साथ-साथ सुषमा स्वराज से भी मुलाकात की। विधायकों ने उनसे ‘बिहार मामले’ की गंभीरता से अवगत कराया और यह बताने की भी चेष्टा की कि पानी कितना ऊपर पहुंच चुका है। विधायकों ने उनसे तत्काल हस्तक्षेप का भी अनुरोध किया। नाराज विधायक कर्नाटक का चेहरा दिखाकर ‘चुप’ कराने के प्रयास से भी आहत हैं और उन्होंने बिहार को कर्नाटक से सर्वथा अलग रखने की अपील भी की है। एक विधायक के अनुसार यह मुहिम सिर्फ बिहार में पार्टी को बचाने की है, जिसके लिए वे किसी हद तक जा सकते हैं। अलबत्ता डेढ़ दर्जन विधायक शुक्रवार की रात तक पटना वापस आ गए जबकि शेष शनिवार तक पटना आएंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: खफा भाजपा विधायकों ने केन्द्रीय नेताओं तक अपनी बात पहुंचाई