अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ठेलाठेली

ठेलाठेली नरक में भी ठेलाठेली जसा ही सीन कभी-कभी राजनीति में होता है। उस दिन संसद में बिहार के दो दिग्गज मिले तो एक पूर्व मंत्री को लेकर ठेलाठेली का नजारा शुरू हो गया। जदयू के सांसद बोले-ले जाना हो तो ले जाइए। मेर यहां उनका मन नहीं लग रहा है। आपका ही आदमी है। सुप्रीमो ने टका सा जवाब दिया-लैबलिटी है। पूरा का पूरा लैबलिटी ही समझो। ले गए हो तो खुद झेलो। हम वापस नहीं लेनेवाले हैं। इस संवाद के दौरान दर्शक बने एक सांसद की टिप्पणी थी-नरक के बार में सुना था। राजनीति में ऐसी ठेलाठेली पहली बार देख रहे हैं।ड्ढr ड्ढr दावतड्ढr दावत देना अच्छी बात है। मगर पात्र का ख्याल रखा जाना भी जरूरी है। पावर के दिनों में हसन साहब एक अच्छे मेजबान हुआ करते थे। दावतों का दौर चलता था। कोशिश यही रहती थी कि मेहमान पूरी तरह खुश होकर लौटे। ऐसे ही एक दावत में भात-दाल प्रेमी मंत्री भी शामिल हुए। दो पासवान बंधु पहले से ही खींच रहे थे। शाकाहारी मंत्री ने जो कुछ देखा, सबकुछ राजा को बता दिया। कहा कि अभूतपूर्व दृश्य था सर। इसी दावत ने मंत्रीजी को भूतपूर्व बना दिया। दावत देनेवाले लोग चाहें तो इस घटना से सबक ले सकते हैं।ड्ढr ड्ढr बेचाराड्ढr किसी को पद नहीं मिला तो परशान है। मगर कुमार साहब का मामला अलग किस्म का है। उनकी छंटनी होते-होते बची। विभाग गया। मंत्रीगिरि बच गई। नई समस्या है। उन्हें जो विभाग मिला, वह पहले मुख्यमंत्री के पास था। सो, मंत्री के बैठने के लिए अलग से व्यवस्था नहीं की गई थी। नए मंत्री सभी सचिवालय का चक्कर लगा चुके हैं। उन्हें अबतक बैठने का कमरा नहीं मिला। बेचार के साथ मुश्किल यह हो रही है कि कमरा न मिलने की शिकायत भी नहीं कर सकते। क्या पता, कमरा मांगने के चक्कर में मंत्रीगिरी भी न चली जाए।ड्ढr ड्ढr चुगलीड्ढr डाक्कसाब चुगली से परशान हैं। अफवाह है कि मुखर्जी दा की मदद से सोनिया गांधी से मुलाकात हो चुकी है। अब बाकी दिन आश्रम में ही गुजारंगे। चुगलखोरी का असर हुआ। डाक्कसाब के पुत्र का मंत्रालय छोटा कर दिया गया। मुश्किल यह है कि डाक्कसाब किसके सामने सफाई दें। दरबारियों के बीच यही दोहराते हैं कि अक्तूबर के बाद दिल्ली गए ही नहीं। निजी काम से इधर दिल्ली गए भी तो किसी से मुलाकात ही नहीं की। जहाज और रल से भी इसकी जांच की जा सकती है। मगर, चुगलखोरों के सामने उनकी कुछ नहीं चल पा रही है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: राज दरबार