अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कार्डिनल के पुरोहित जीवन के 39 साल

ार्डिनल तेलेस्फोर पी टोप्पो के पुरोहितीय जीवन के 3वर्ष तीन मई को पूर हुए। तीन मई 1ो उनका पुरोहिताभिषेक हिमलरीड, स्विटारलैंड में हुआ था। इस मौके पर कार्डिनल ने आर्चबिशप हाउस के चैपल में धन्यवादी मिस्सा चढ़ायी। मिस्सा समारोह में फादर आनंद डेविड, फादर पीटर रोपोसो, फादर तेलेस्फोर एक्का, फादर राजेश टोप्पो, फादर इग्नेस टोप्पो, फादर जयमान खालखो, सिस्टर बिराीनिया और सिस्टर लिली सहित आर्चबिशप हाउस के कई धर्मसमाजी और सेमिनेरियंस उपस्थित थे। सात अक्तूबर 1ो उन्हें बिशप बनाया गया था। 21 अक्तूबर 2003 को वे कार्डिनल बनाये गये। कार्डिनल टोप्पो ने लीवंस वोकेशन सेंटर तोरपा, सोशल डेवलपमेंट सेंटर दुमका, कैथोलिक सिविल सर्विसेज कोचिंग सेंटर रांची, चिल्ड्रेंस स्पांसरशिप प्रोजेक्ट रांची, हीरा बरवे डिसपेंसरी चैनपुर, सोशल डेवलपमेंट सेंटर रांची, रैग पिकर्स एजुकेशन एंड डेवलपमेंट रांची, लेपर्स रिहेबिलिटेशन सेंटर कुरकुरिया, डी एडिक्शन एंड रिहेब्लिलटेशन सेंटर मांडर, ग्राम गुरु एजुकेशन सोसाइटी रांची, रांची कैथोलिक आर्चडायसिसन एजुकेशन बोर्ड समेत कई संस्थाओं की स्थापना में महत्वपूर्ण भूमिका निभायी है। केंद्रीय राज्यमंत्री डॉ रामेश्वर उरांव ने आर्चबिशप हाउस में उनसे मुलाकात कर शुभकामना दी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: कार्डिनल के पुरोहित जीवन के 39 साल