अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मोनाजिर को मंत्री वाले बंगले से मोह!

मंत्री पद भले चला गया हो लेकिन बड़े आवास से मोह नहीं छूट रहा है। पूर्व भवन निर्माण एवं आवास मंत्री मोनाजिर हसन की एक चिठ्ठी उनके पूर्व के विभाग में पहुंच गई है। अब श्री हसन की मांग पर विभाग को फै सला करना है। दरअसल श्री हसन अब मंत्री रहे नहीं, लिहाजा उन्हें मंत्री वाला आवास खाली करना होगा और विधायकों के लिए आवंटित आवास में जाना होगा। यह नियम मंत्री पद गंवा चुके सभी लोगों पर लागू होगा।ड्ढr ड्ढr श्री हसन ने विधानसभा सचिवालय को पत्र लिखकर कहा कि उनके लिए आवास को छोड़ना मुश्किल है लिहाजा उन्हें मिले मंत्री वाले आवास को विधानसभा सेंट्रल पूल में लेकर उनके नाम पर आवंटित कर दिया जाए। विधानसभा सचिवालय ने उनके पत्र को भवन निर्माण और आवास विभाग में भेज दिया है। विधानसभा सचिवालय सूत्रों के अनुसार मंत्री को मिलने वाले आवास की जिम्मेवारी भवन निर्माण एवं आवास विभाग की होती है। लिहाजा यह विभाग ही तय करगा कि श्री हसन अभी जिस आवास में रह रहे हैं वह विधानसभा के सेंट्रल पूल में आएगा या नहीं। देखना है कि अपने पूर्व मंत्री की मांग पर विभाग कितनी दरियादिली से पेश आता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: मोनाजिर को मंत्री वाले बंगले से मोह!