class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भारतीय सैनिकों पर आरोपों से भारत पर दबाव बढ़ा

अफ्रीकी देश कांगो में संयुक्त राष्ट्र शांति सेना में तैनात तीन भारतीय सैनिकों की कारगुजारियों को लेकर भारत पर अंतरराष्ट्रीय दबाव बढ़ गया है। अमेरिका के मानवाधिकार संगठन ह्यूमन राइट्स वाच ‘एनआरडब्ल्यू’ ने प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और रक्षा मंत्री एके एंटनी को भेजे एक पत्र में कहा है कि शांति सेना में अपने सैनिक भेजने वाले देशों को उन्हें अनुशासन में रखने के लिए तत्काल कदम उठाने की जरूरत है। संयुक्त राष्ट्र की अंदरुनी जांच एजेंसी ऑफिस ऑफ इंटरनल आेवरसाइट सर्विसेज (आेआईआेएस) ने तीन भारतीयों को एक विद्रोही गुट से संपर्क रखने वाले एक डीलर से गैर कानूनी ढ़ंग से सोना खरीदने के आरोप में लिप्त पाया था। इन में एक लेफ्टिनमेंट कर्नल, एक सूबेदार और एक हवलदार को शामिल बताया गया है। भारतीय सेना इस मामले में जांच के आदेश दे चुकी है। लेकिन एचआरडब्ल्यू का दावा है कि संयुक्त राष्ट्र की जांच एजेंसी ने कांगो के उत्तरी किबू में कुछ भारतीय सैनिकों के खिलाफ दुराचरण एवं गैर कानूनी व्यवहार के 44 आरोप दर्ज किए हैं। गुट ने कहा है कि जांच एजेंसी ने कम से कम दस आरोपों में कुछ न कुछ प्रमाण पाए थे और यह भी कहा था कि आरोप इतने गंभीर है कि उनकी आगे जांच करना सख्त जरूरी है। इन आरोपों में विद्रोही गुट फोर्स देमोक्रातिक दे लिबरेशन टू रवांडा (एफडीएलआर) को सोने के बदले हथियार देने, सैन्य कार्रवाइयों की पहले से उन्हें भनक देने और सोने एवं हाथीदंत की तस्करी के आरोप शामिल थे। मानवाधिकार संगठन ने कहा कि रिपोर्ट में की गई सिफारिशों के बाजवूद आेआईआेएस की वरिष्ठ स्तर की बैठक में 34 पन्नों की जांच रिपोर्ट को 4 पृष्ठ के ज्ञापन में बदल दिया गया। इनमें भारत से यह अपेक्षा की गई कि वह कुछ पहलुआें की जांच करने की संभावनाआें पर विचार कर सकता है। एचआर डब्ल्यू ने कहा है कि अगर गैर जवाबदेही का आलम यही रहा तो कांगो शांति मिशन ही नहीं, बल्कि दुनियाभर के शांति मिशनों में अपनी जान की बाज लगाकर नागरिकों की रक्षा के लिए जिम्मेदार सैनिकों की छवि दागदार होने का जोखिम है। संगठन की आेर से यह सख्त पत्र उसके कार्यकारी निदेशक कैनेथ राथ ने संयुक्त राष्र्ट महासचिव को सम्बोधित किया है और उसकी प्रति डॉ. मनमोहन सिंह और एंटनी को भेजी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: सैनिकों पर आरोपों से भारत पर दबाव बढ़ा