अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शादी ब्रेक के बाद, पांच जुलाई तक लग्न नहीं

सेहरा बांधने की तैयारी है। फिलहाल रुकना होगा। दो महीने के बाद ही घोड़ी पर चढ़ सकेंगे। शादी-विवाह अब दो महीने के ब्रक के बाद ही होगा। फिलहाल पांच जुलाई तक कोई लग्न नहीं है। शुक्रास्त के चलते दो महीने तक कोई शुभ मुहूर्त नहीं है। शादी को इच्छुक जोड़ों को अभी प्रतीक्षा करनी होगी। वहीं 13 जुलाई से 18 नवंबर तक भी जोड़ियां नहीं बन सकेंगी। यानी चार महीने का ब्रक लग जाएगा। वहीं मिथिला पंचाग ने तो गत मार्च में ही शादी-ब्याह पर ब्रक लगा दिया था। इस पंचाग के मुताबिक भी अब नवंबर में शादी का मुहूर्त है।ड्ढr ड्ढr पं. बिपेन्द्र झा माधव बताते हैं कि 27 अप्रैल के बाद से ही शुक्रास्त के कारण शादी-ब्याह का शुभ मुहूर्त नहीं बन रहा है। पांच जुलाई के बाद यानी 6 से 12 जुलाई के बीच शादी का शुभ मुहूर्त है। उनका कहना है कि शुक्र ग्रह दांपत्य कारक है इसलिए फिलहाल शादियां नहीं हो सकेंगी। वहीं 13 जुलाई से हरिशयन होने के कारण लगभग चार माह तक लग्न मुहूर्त नहीं है। ऐसी मान्यता है कि देवशयन में भगवान सो जाते हैं इसलिए शादी का मुहूर्त नहीं बनता है। नवंबर में 1जुलाई को पहला लग्न है। पं. विनोद झा वैदिक कहते हैं कि 2 मई के बाद ही शुभ लग्न शुक्रास्त के चलते समाप्त हो गया। उनके मुताबिक 6 से 12 जुलाई के बीच सात लग्न के मुहूर्त हैं। जानकारी के अनुसार इस वर्ष अक्षय तृतीया पर भी शुक्रास्त का प्रभाव है। अक्षय तृतीया के मौके पर बड़ी संख्या में विवाह होते हैं, लेकिन इस पवित्र मुहूर्त पर भी शुक्रास्त के कारण लग्न नहीं है। शुक्रास्त चढ़ जाने से वैसे जोड़ों की भी शादी टल गयी है जिनकी सगाई हो चुकी है। शादी विवाह का मुहूर्त नहीं होने से फूल, हलवाई, कैटरर, बैंडबाजा, टेंट आदि का व्यवसाय करने वालों की कमाई रुक गयी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: शादी ब्रेक के बाद, पांच जुलाई तक लग्न नहीं