class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वीआइपी पर 25 करोड़ आमजन पर 150 रुपये

झारखंड में वीआइपी की सुरक्षा में सालाना करीब 20 करोड़ रुपये खर्च होते हैं, अनुमान के अनुसार एक आम आदमी पर सुरक्षा मद में साल भर में मात्र 150 रुपये खर्च होते हैं। यह आंकड़ा वेतन और यात्रा भत्ता जोड़कर निकाला गया है। हथियार और ईंधन पर खर्च होने वाली रकम अलग है। झारखंड के करीब राजनेताओं, मंत्री, सांसद और विधायक की सुरक्षा में करीब एक हजार जवान तैनात हैं। हरक जवान का मासिक वेतन कम से कम 10 हजार रुपये है। यानि 12 करोड़ रुपये वीआइपी की सुरक्षा पर खर्च हो रहे हैं। पूर्व विधायक, पूर्व मंत्री, पूर्व मुख्यमंत्री, आइएसएस, आइपीएस और दूसर महत्वपूर्ण व्यक्ितयों को जो सुरक्षा उपलब्ध करायी गयी है, उनकी संख्या करीब 600 है और इनकी सुरक्षा में करीब 1200 जवान अलग से तैनात हैं। हरक जवान का वेतन मासिक 10 से12 हजार रुपये है। करीब 15 करोड़ रुपये सालाना इन लोगों की सुरक्षा में खर्च होते हैं। झारखंड की जनस्ांख्या करीब 3 करोड़ है। यहां करीब 40 हजारपुलिस वाले तैनात हैं। करीब साढ़े सात सौ लोगों की सुरक्षा में एक पुलिसकर्मी है। आम लोगों की सुरक्षा में करीब 150 रुपये खर्च होते हैं। वहीं महत्वपूर्ण व्यक्ितयों की सुरक्षा में 20 से 25 करोड़ रुपये खर्च होते हैं। झारखंड इकलौता राज्य है, जहां के मंत्री सायरनयुक्त काफिले का उपयोग करते हैं। देश के किसी दूसर राज्य में यह सुविधा मंत्रियों को उपलब्ध नहीं है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: वीआइपी पर 25 करोड़ आमजन पर 150 रुपये