DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

तेल कीमतों के लिए भी भारत-चीन दोषी

दुनिया भर में खाद्य पदार्थों की बढ़ती कीमतों के लिए भारतीयों को दोषी ठहराने के बाद अब अमेरिका ने तेल कीमतों में बढ़ोतरी के लिए भी भारत और चीन को जिम्मेदार ठहराया है। व्हाईट हाऊस के प्रेस उप सचिव स्कॉट स्टेंजिल ने कहा कि कहा कि चीन और भारत जसे विकासशील देश तेजी से तरक्की कर रहे हैं और उनके नागरिकों का जीवन स्तर बढ़ रहा है। इन देशों में तेल की मांग बढ़ रही है और इसका सीधा असर कीमतों पर पड़ रहा है। तेल की कीमत में बढ़ोतरी के बार में पूछे गए एक सवाल के जवाब में प्रवक्ता ने कहा, ‘बहुत सार ऐसे उपाय हो सकते हैं जिनके जरिए हम अपनी निर्भरता कम सकते हैं। हमें काफी कुछ करना होगा। मैं यहां यह बात स्पष्ट कर देना चाहता हूं कि दुनिया भर में तेल की मांग तेजी से बढ़ रही है।’ पिछले दिनों राष्ट्रपति बुश ने कहा था कि भारतीय और चीनियों की खुराक बढ़ने की वजह से खाद्यान्न के दाम बढ़ रहे हैं। बुश के बयान पर भारत में तीखी प्रतिक्रिया हुई। इस मामले में सफाई देते हुए स्कॉट स्टेंजिल ने कहा कि अमेरिका का मानना है कि सभी देशों का विकास करना अच्छी बात है। बुश ने अपने भाषण में कहा था कि भारत में मध्यम वर्ग की आबादी 35 करोड़ है जो अमेरिका की कुल आबादी से ज्यादा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: तेल कीमतों के लिए भी भारत-चीन दोषी