DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एक अरब एशियाइयों पर कुपोषण का खतरा

भारतीय एवं चीनी लोगों की समृद्धि के कारण खाद्य संकट उत्पन्न होने के बारे में अमेरिकी राष्ट्रपति जार्ज बुश के बयान के महज दो दिन बाद ही एशियाई विकास बैंक (एडीबी) ने अपनी वार्षिक बैठक में कहा कि महंगाई से दुनिया के एक अरब एशियाई लोगों में कुपोषण का खतरा पैदा हो सकता है। बैंक ने कहा कि खाद्य पदार्थों की बढ़ती कीमतों से पैदा हुआ संकट इतना गंभीर है कि गरीबी दूर करने के प्रयासों में जितनी सफलता हासिल हुई है, वह छोटी पड़ जाएगी। सम्मेलन में जारी एक रिपोर्ट में अंतरराष्ट्रीय समुदाय से तत्काल प्रभावी कदम उठाने का आग्रह किया गया है। एशियाई देशों में सबसे अधिक गरीब लोगों की परेशानियों को कम करने के लिए बनाए गए एक कोष में दुनिया के कई देशों ने 11 अरब डालर का सहयोग दिया है। अफ्रीकी विकास बैंक ने भी एक अरब डालर की मदद देने की घोषणा की है। एडीबी के प्रबंध निदेशक रजत नाग ने कहा कि बैंक को सबसे ज्यादा चिंता एशिया के एक अरब लोगों की है।इस बीच भारत के वित्त मंत्री पी. चिदंबरम के उस बयान की आलोचना शुरू हो गई है, जिसमें उन्होंने खाद्यान्न के वायदा कारोबार पर रोक लगाने का सुझाव दिया था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: एक अरब एशियाइयों पर कुपोषण का खतरा