अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नई दिल्ली में बीआरटी का बखेड़ा खत्म

लगता है कि बीआरटी कॉरिडोर निर्माण के अगले चरण में काफी परिवर्तन हो सकता है। क्योंकि दूसर चरण में दिल्ली गेट से लेकर मूलचंद अस्पताल तक किलोमीटर लम्बे बीआरटी कॉरिडोर को पृथक रूप से नहीं बनाया जाएगा। इतना ही नहीं बल्कि इस रूट पर चलने वाली लो-फ्लोर बसें सड़क के बीचोबीच चलने की बजाए अब बायीं ओर चलेंगीं। सूत्रों के अनुसार यह फैसला मंगलवार की शाम दिल्ली के मुख्य सचिव राकेश मेहता की अध्यक्षता में हुई एक उच्चस्तरीय बैठक में लिया गया। बैठक में यातायात महकमे से जुड़े कई विभागों के अधिकारियों दिल्ली परिवहन निगम और डिम्स के आला अधिकारियों ने भी भाग लिया। दिल्ली गेट से लेकर मूलचंद अस्पताल तक बनने वाला कॉरिडोर इस तरह का बनाया जाएगा जिससे वाहन एक लेन से दूसरी लेन में प्रवेश कर सकें। सड़क के बीच किसी प्रकार का डिवाइडर नहीं बनाया जाएगा। लेकिन लो-फ्लोर बसों के चलने के लिए सड़क के बायीं ओर एक पीले रंग की लाइन खींची जाएगी। सामान्य यातायात अन्य सड़कों पर चलने वाले वाहनों की तरह दायीं ओर ही चलेगा। दिल्ली सरकार के उच्चपदस्थ सूत्रों ने जानकारी देते हुए बताया कि दिल्ली में यातायात में सुधार के लिए कुल सात बीआरटी बनाये जाने की योजना है। लेकिन विशेषज्ञों की एक कमेटी ने इसमें परिवर्तन करते हुए अब कार लेन (मूल चंद से दिल्ली गेट तक) बीच में रखने की सिफारिश की है। मुख्य सचिव मेहता ने कहा कोई भी लेन जरूरत के अनुसार बनाई जायेगी। मूलचंद-दिल्ली गेट कॉरिडोर के मामले में भी इसी प्रकार मामूली परिवर्तन किया गया है। भाजपा नेता विजय गोयल कहते हैं, बीआरटी काॉरिडोर के निर्माण को लेकर पूरी तरह भ्रम की स्थिति में है। दिल्ली पर इस कॉरिडोर को थोपने की कोशिश की जा रही है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: नई दिल्ली में बीआरटी का बखेड़ा खत्म