DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आईजी ने की नेताओं से पूछताछ

पुलिस ज्यादती का आरोप लगाकर एक साथ 62-63 राजग नेताओं का अपने दल और पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे देने के मामले की मंगलवार को उच्चस्तरीय जांच शुरू हुई। पुलिस महानिरीक्षक सुनील कुमार ने मगध रेंज के डीआईजी प्रवीण वशिष्ठ के साथ नक्सल प्रभावित कोठी थाना क्षेत्र के पकड़ी गांव पहुंचे और 27 अप्रैल को रामस्वरूप ठाकुर के घर शादी समारोह के दौरान पुलिस छापामारी के संबंध में परिजनों व ग्रामीणाों से पूछताछ की।ड्ढr ड्ढr रामस्वरूप ठाकुर के परिवार और कुछ पड़ोसियों ने बताया कि जब उनके घर में लड़की की शादी की रस्म चल रही थी उसी वक्त पुलिस ने आकर घर को घेर लिया और शादी में व्यवधान पैदा किया। पुलिस इस क्रम में कुछ अज्ञात लोगों सहित चार पांच गांव के लोगों को पकड़कर ले गई। हालांकि उसमें से तीन को जेल भेजकर पांच को छोड़ दिया गया। जोनल आईजी ने पकड़ी गांव के बाद इमामगंज व अन्य थानों में गए तथा इस्तीफा देने वाले राजग नेताओं से भी पुलिस ज्यादती के बारे में पूछताछ की।ड्ढr ड्ढr बताया जाता है कि कुछ राजग नेताओं ने बाराचट्टी थाना क्षेत्र में उमेश मांझी के फर्जी मुठभेड़ में मारे जाने, लड़की की शादी के दौरान रामस्वरूप ठाकुर के घर पुलिस की छापेमारी तथा इमामगंज के व्यवसायी मनोज अग्रवाल हत्याकांड का विरोध करने वालों पर मुकदमा दर्ज कर परेशान करने इत्यादि उदाहरण प्रस्तुत कर उसे पुलिस ज्यादती बताया। हालांकि भाजपा और जदयू के कई प्रखंड पदाधिकारी इस बात से मुकर गए कि उन्होंने पुलिस ज्यादती के कारण इस्तीफा दिया है। जोनल आईजी ने उक्त मामले में कोठी और इमामगंज थानों के पुलिसकर्मियों सहित अन्य थानों के पुलिसकर्मियों से भी पूछताछ की जो छापेमारी में शामिल थे ।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: आईजी ने की नेताओं से पूछताछ