class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पूवर्ोत्तर में तेल का जबर्दस्त संकट

तेल उत्पादन में गिरावट और दशकों से नई रिफाइनरी नहीं लगने के कारण पूवर्ोत्तर क्षेत्र में तेल का जबर्दस्त संकट पैदा हो गया है। विशेषज्ञों का कहना है कि इससे ने सिर्फ यहां के तेल शोधन कारखानों के लिए खतरा उत्पन्न हो गया है, बल्कि यह क्षेत्र में तेल उद्योग के भविष्य के लेकर भी गंभीर चिंता का कारण बन गया है। विशेषज्ञ इस संकट से परेशान हैं और वे हर स्थिति में इससे निपटने के उपाय में जुटे हैं। आयल इंडिया लिमिटेड के अध्यक्ष तथा प्रबंधन निदेशक एमआर पसरिजा का कहना है कि यदि कच्चे तेल के उत्पादन का लक्ष्य हासिल नहीं किया गया तो इससे गंभीर संकट पैदा हो जाएगा। उन्होंने कहा कि तेल की दरों में बढोतरी के कारण उन्हें तो लाभ हो रहा है लेकिन कच्चे तेल का उत्पादन लंबे समय से धीमा हो रहा है जिसके कारण संकट पैदा हो गया है। उन्होंने कहा कि इस तरह के संकट से निपटने के लिए नई रिफाइनरियों में काम करना जरूरी हो गया है। निदेशक शोध और विकास आनंद कुमार का कहना है कि यह गंभीर संकट है और इससे निपटने के उपाय किए जाने आवश्यक हो गए हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: पूवर्ोत्तर में तेल का जबर्दस्त संकट