DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

डॉल्फिन को मारने वालों पर हो सकती है कानूनी कार्रवाई

पानी घटने की वजह से बुधवार को शारदा नहर में आए गांगेय डाल्फिन के एक जोड़े की नर डाल्फिन को ग्रामीणों ने लाठी-डंडों से पीट-पीट कर मार डाला और मादा डाल्फिन को घायल कर दिया। ‘बड़ी मछली’ के कौतूहल ने वन्य जीव संरक्षण अधिनियम 1े तहत संरक्षित डाल्फिन को उसकी जान का दुश्मन बना डाला। क्षेत्र के समेसी गाँव के पास पिछले 6-7 दिनों से इंदिरा नहर में डाल्फिन का जोड़ा नहर में कम पानी होने से दिखायी दे रहा था। कई दिनों से घात लगाए बैठे चरवाहों ने बुधवार सुबह नर डाल्फिन को लाठी-डण्डों से पीट-पीट कर मार डाला। डाल्फिन की हत्या की सूचना ग्रामीणों ने पुलिस को दे दी। मौके पर पहँुची नगराम पुलिस ने इसकी सूचना वन कर्मियों को दी। वन क्षेत्राधिकारी बीएन सिंह व वन एसीएफ एमपी सिंह ने डाल्फिन मछली का शव कब्जे में लेकर परीक्षण के लिए चिड़ियाघर भेज दिया। मारी गई डाल्फिन की लम्बाई एक मीटर 53 सेन्टीमीटर, जबड़ा 35 सेमी., पँूछ 27 सेमी. मोटाई सेमी. थी। शाम को चिड़ियाघर में डॉल्फिन का पोस्टमार्टम किया गया जिसमें मृत्यु का कारण हृदय व श्वसन क्रिया का अवरुद्ध होना बताया गया है।लुप्तप्राय वन्य जीव परियोजना की वन सरंक्षक ईवा शर्मा का कहना है कि गांगेय डाल्फिन स्तनधारी वन्य जीव की श्रेणी में आती है और दुर्लभ प्रजाति की है। उन्होंने बताया कि बहराईच इलाके में कतर्निया घाट स्थित गेरूआ नदी में काफी तादाद में यह देखी जाती हैं। लखनऊ के जिला वनाधिकारी मुकेश कुमार का कहना है कि चूंकि यह जीव साफ और बहते हुए पानी में रहता है इसी वजह से पानी घटने पर यह शारदा नहर में आ गई। नहर बंद होने की वजह से यह ग्रामीणों की नजर में आ गई। डाल्फिन को मारने वाले ग्रामीणों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई हो सकती है। वन क्षेत्राधिकारी बीएन सिंह व एसओ गंगेश त्रिपाठी का कहना है कि पीएम रिपोर्ट आने के बाद मामला दर्ज कर कार्यवाही की जाएगी। (हिन्दुस्तान टीम

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: डॉल्फिन को मारने वालों पर हो सकती है कानूनी कार्रवाई