अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

खली ने कहा, हमारी कुश्ती असली

दुनिया भर के पहलवानों को धूल चटा चुके डब्ल्यूडब्ल्यूई चैम्पियन द ग्रेट खली का कहना है कि ये मुकाबले नकली नहीं बल्कि असली होते हैं। दलीप सिंह राणा उर्फ खली ने कहा, ‘ज्यादातर लोग यही मानते हैं कि डब्ल्यूडब्ल्यूई कुश्तियां नकली होती हैं। 7.3 फीट लंबे और 10 किलो वजन के भारतीय पहलवान ने कहा, ‘जो भी आप देखते हैं सब असली होता है। मुकाबले के दौरान पहलवान गंभीर रूप से घायल भी हो जाते हैं। यहां तक कि उनकी मौत भी हो जाती है।’ खली भारत में अपनी लोकप्रियता से हैरान हैं। उन्होंने कहा, ‘मुझे भारत में इस तरह का स्वागत मिलने की उम्मीद नहीं थी। मैं समझता था कि यहां क्रिकेटरों और फिल्म स्टारों के लिए ही भीड़ उमड़ती है।’ इससे अभिभूत खली ने कहा, ‘ मैं अपनी पहलवानी के दम पर देश को पहचान दिलाने की कोशिश करुंगा।’ भारत में कुश्ती को बढ़ावा देने की अपनी योजना के बारे में उन्होंने कहा, ‘फिलहाल मेरा बहुत ही व्यस्त कार्यक्रम है। अभी तो मुझे अपने कई निजी कार्यों के लिए समय नहीं मिल पाता। लेकिन भविष्य में मैं बच्चों को पहलवानी का प्रशिक्षण देने की पूरी कोशिश करूंगाा।’ खली के प्रशंसकों में भारत ही नहीं बल्कि दुनियाभर के बच्चे भी शामिल हैं।ं लेकिन खली बच्चों को घर में पहलवानी से परहेज करने की सलाह देते हैं। उन्होंने कहा, ‘बच्चे मेरी देखादेखी घर में पहलवानी न करं। यह उनके लिए खतरनाक हो सकता है।’ उनका मानना है कि देश में कुश्ती के क्षेत्र में अपार संभावनाएं हैं। अगर मौका मिले तो भारतीय पहलवान अंतरराष्ट्रीय स्तर पर धूम मचा सकते हैं। अमेरिका में 22 पहलवानों को धूल चटाकर 2007 में वर्ल्ड हैवीवेट चैंपियनशिप की जीत को अपने जीवन का सबसे अहम क्षण बताते हुए खली ने कहा, ‘मेरे अगले मुकाबले ‘नो बे आउट’ और ‘पेपर व्यू’ काफी रोमांचक होंगे। उम्मीद करता हूं कि इनमें भी मैं बेहतर करुंगा।’ खली ने अपनी सेहत का राज बताते हुए कहा, ‘मैं शाकाहारी खाना ज्यादा पसंद करता हूं।’

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: खली ने कहा, हमारी कुश्ती असली