DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

डिफाल्टचरों पर कार्रवाई में जुटचा बिजली बोर्ड

बिजली बोर्ड अब बड़े डिफाल्टरों को चिह्न्ति करने में जुट गया है। कई ऐसे बड़े डिफाल्टरों की पहचान एमआरआई रिपोर्ट के आधार पर कर ली गयी है। इनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की तैयारी है। बोर्ड की एसटीएफ टीम ने तीन महीने के दौरान 28 डिफाल्टरों पर कार्रवाई कर लगभग 85 लाख रुपए जुर्माना ठोका है। इसमें पूर्व मंत्री तुलसी दास मेहता के पुत्र हाजीपुर इंडस्ट्रीयल क्षेत्र स्थित आटा फैक्ट्री पर छापेमारी बड़ी सफलता है। इस मामले में 30 लाख 30 हजार रुपए का जुर्माना लगाा गया है। साथ ही दो की गिरफ्तारी भी हुई है।ड्ढr ड्ढr बोर्ड के तकनीकी सचिव एके श्रीवास्तव व एसटीएफ प्रमुख एसके सिंह ने बुधवार को पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि डिफाल्टर कितने ही रसूख वाले क्यों न हो उन्हें छोड़ नहीं जाएगा। एसटीएफ टीम के प्रमुख को धमकियां भी मिल रही हैं। इसके बावजूद अब छापेमारी में तेजी लायी जाएगी। उन्होंने हाीपुर में मंगलवार को की गयी छापेमारी की विस्तृत जानकारी देते हुए बताया कि फैक्ट्री के मीटर में लगी सिम के साथ छेड़छाड़ कर एंटीना हटा लिया गया था। हालांकि इसके बावजूद मीटर रीडिंग इंस्ट्रूमेंट के आधार पर बिजली चोरी की बात पकड़ ली गयी। एसटीएफ की दो नियमित टीमों के अलावा एक विशेष टीम भी छापेमारी में लगायी गयी थी। हाजीपुर इंडस्ट्रीयल क्षेत्र में दो और बड़े फैक्िट्रयों में भी चोरी की जानकारी मिली है। जल्द ही इन पर भी छापेमारी की जाएगी। उन्होंने बताया कि अप्रैल महीने में 11 जगहों पर छापेमारी कर 54.71 लाख रुपए का जुर्माना लगाया गया है। सबसे बड़ी चोरी सुपौल में पकड़ी गयी व 34 लाख रुपए का जुर्माना लगाया गया। हालांकि अबतक भुगतान नहीं किया गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: डिफाल्टचरों पर कार्रवाई में जुटचा बिजली बोर्ड