अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

होम्योपैथी के प्रति जागरूकता जरूरी

होम्योपैथी पुरानी इलाज पद्धति है जिसमें कई असाध्य रोगों के उपचार की क्षमता है। दवाओं का असर अन्य पैथी की दवाओं के मुकाबले जरा देर से होने के कारण लोग इससे दूर भागते हैं। होमियोपैथ में सभी रोगों का इलाज संभव है। लोगों में होमियोपैथी के प्रति जागरूकता लाने की आवश्यकता है। बुधवार को कदमकुआं स्थित होम्योपैथ क्लीनिक का उद्घाटन करते हुए इनरव्हील क्लब ऑफ पाटलिपुत्रा की अध्यक्षड्ढr ड्ढr पुष्पा सिंह ने ये बातें कहीं। उन्होंने राज्य सरकार से सूबे में और कॉलेजों की स्थापना की मांग की। साथ ही उन्होंने पहले से चल रहे कॉलेजों की स्थिति में सुधार लाने पर भी बल दिया। इस मौके पर डा. बी. के. उपाध्याय ने होमियोपैथी के जन्मदाता डा. फ्रेडरिक सैम्युअल हैनीमैन के बार में लोगों को जानकारी दी। उनके अनुसार सस्ता होने के कारण गरीबों व लाचारों के लिए इलाज का सबसे बेहतर माध्यम है। साथ ही उन्होंने इन दवाओं को साइड इफेक्ट रहित बताया। क्लब की चैयरमैन सुनीता जयसवाल ने कहा कि जानकारी के अभाव में आम लोग इसे दूर होते हैं। इस मौके पर क्लब की सुमन महेश्वरी, पुष्पा बिरला, श्वेता सिंह, वारुणी सिंह आदि उपस्थित थीं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: होम्योपैथी के प्रति जागरूकता जरूरी