अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दिल्ली में कुलियों की जबरदस्त किल्लत

गर्मी की छुट्टियों में यदि आप रेलगाड़ी से दिल्ली से कहीं जा रहे हों या यहां आ रहे हों और आपके पास यादा सामान है तो उसे अपने सिर पर ढ़ोने के लिए तैयार हो जाइए. क्योंकि दिल्ली क्षेत्र के सभी स्टेशनों पर कुलियों की जबरदस्त किल्लत है। नई दिल्ली, पुरानी दिल्ली, हजरत निजामुद्दीन, दिल्ली सराय रोहिल्ला स्टेशनों पर कुलियों की कमी से यह अंदाजा मत लगाइएगा कि रेलवे के कुली हड़ताल पर हैं, बल्कि उनकी कमी का कारण रेल मंत्री लालू प्रसाद यादव की इस बजट की एक घोषणा है। दरअसल इस वर्ष रेल बजट पेश करते हुए लालू यादव ने रेलवे कुलियों को गैंगमैन के रूप में नौकरी देने की घोषणा की थी। उसी घोषणा को दिल्ली मंडल समेत पूरे देश में अमली जामा पहनाया जा रहा है। इसलिए कुली स्टेशनों पर ड्यूटी बजाने की बजाय पिछले एक महीने से दिन भर डीआरएम ऑफिस में डेरा जमाए बैठे रहते हैं। उत्तर रेलवे के दिल्ली डिवीजन ने पिछले महीने कुलियों को गैंगमैन के रूप में नौकरी देने की प्रक्रिया शुरू की। रेलवे बोर्ड के निर्देश के अनुसार 50 वर्ष से कम उम्र के उन कुलियों को नौकरी दी जानी है जो पढ़ने लिखने में सक्षम हों और रेलवे के बी वन चिकित्सा मानदंड पर खरे उतरते हों। इन कुलियों की पहले पढ़ने लिखने की परीक्षा ली जा रही है और जो उसमें पास कर गए उनका मेडिकल कराया जा रहा है। उसमें भी जो पास हो गए उन्हें नियुक्ित के लिए ऑफर लेटर जारी किया जा रहा है। जो कुली ऑफर स्वीकार कर रहे हैं उनका बिल्ला वापस लेकर नौकरी वाइन कराई जाएगी। दिल्ली डिवीजन में कुलियों की कुल संख्या 200 के आसपास है, जिनमें से 2700 कुली परीक्षा देने के योग्य पाए गए। रेलवे सूत्रों के मुताबिक इनमें से करीब 600 कुली पढ़ने लिखने में असमर्थ रहे या चिकित्सा मानदंड पर खरे नहीं उतर पाए। शेष कुलियों को ऑफर लेटर दिया जा रहा है। गुरुवार तक करीब 700 कुलियों को ऑफर लेटर जारी कर दिया गया था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: दिल्ली में कुलियों की जबरदस्त किल्लत