class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

तेल कीमतें फिर रिकॉर्ड ऊंचाई पर

अंतरराष्ट्रीय बाजार में आसमान छू रही तेल की धार ने शुक्रवार को फिर नया रिकार्ड बनाया और यह 125 डॉलर प्रति बैरल के रिकार्ड स्तर पर पहुंच गई। इस माह के आरंभ में अमेरिका में कच्चे तेल के दामों में 13 फीसदी की बढ़ोत्तरी के बाद दुनिया के कई कोषों ने तेल बाजार में पैसा उडेल दिया था। कीमतें 125.12 डॉलर पहुंचने के बाद अमेरिका में कच्चा तेल जून की डिलीवरी के लिए 1.37 डॉलर चढ़कर 125.06 डॉलर प्रति बैरल बोला गया। लंदन ब्रेंट क्रूड 1.36 डॉलर बढ़कर 124.20 डॉलर के स्तर पर पहुंच गया। विश्लेषकों का कहना है कि तेल बाजार में आए उछाल को देखते हुए तेल में बड़ी तादाद पर कोष निवेश कर रहे हैं क्योंकि बाजार में तेल के दामों की कीमतें तेजी से बढ़ रही हैं। वैश्विक स्तर पर डीजल की आपूर्ति की जबर्दस्त मांग के बाद यूरोप के शेयर बाजार में इस बढोत्तरी को देखते हुए चिंता का माहौल रहा और वहां बाजार नए रिकार्ड पर पहुंच गया। टोक्यो के एक विश्लेषक का कहना है कि वह तेल के दामों में आए इस उछाल से आश्चर्यचकित नहीं है। उसने कहा कि विश्व के कई प्रमुख बाजारों के विशेषज्ञों की भी यही राय रही है कि गर्मियों में तेल के दाम तेजी से बढ़कर नई ऊंचाई तक पहुंच सकते हैं। तेल की ऊंचाई हाल ही में डॉलर के मजबूत होने के बावजूद देखने को मिल रही है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: तेल कीमतें फिर रिकॉर्ड ऊंचाई पर