अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पंजाब और चेन्नई में टॉप की होड़

दिल्ली के जबड़े से जीत खींचकर एक बार फिर विजयपथ पर लौटी चेन्नई और शुरुआती लडख़ड़ाहट के बाद सफलता के घोड़े पर सवार पंजाब के बीच शनिवार को इंडियन प्रीमियर लीग की अंक तालिका में टॉप पर पहुंचने की होड़ रहेगी। चेन्नई ने आठ में से पांच मैच जीतकर 10 अंक हासिल किए हैं। पंजाब के भी सात मैचों में पांच बार विजय के साथ 10 अंक हैं। पंजाब की टीम इस समय अंकतालिका में शीर्ष पर है और वह चेन्नई को हराकर अपना स्थान बरकरार रखना चाहेगी। जबकि धोनी की टीम के पास भी उसे हराकर 12 अंकों के साथ अंकतालिका में सिरमौर बनने का मौका होगा। गौरतलब है कि चेन्नई ने गुरुवार को आखिरी गेंद तक खिंचे बेहद रोमांचक मुकाबले में दिल्ली को चार विकेट से हराकर लगातार तीन मैचों से मिल रही हार के सिलसिले को तोड़ दिया था। पंजाब की टीम शनिवार को होने वाले मैच में चेन्नई से अपने पिछले मैच में हुई हार का बदला भी लेना चाहेगी। इन दोनों टीमों के बीच 1अप्रैल को हुए पिछले मुकाबले में चेन्नई ने पंजाब को 33 रन से हरा दिया था। उस मैच में धोनी की टीम ने माइक हसी के तूफानी शतक और मैथ्यू हेडन तथा सुरेश रैना की जोरदार बल्लेबाजी की बदौलत जीत हासिल की थी मगर इस मैच में नजारा बदला हुआ होगा। चेन्नई टीम से हसी, हेडन और न्यूजीलैंड केऑलराउंडर जैकब ओरम की अपने देश की तरफ से खेलने के लिए विदाई हो चुकी है जिसका खामियाजा चेन्नई को लगातार तीन मैच हारकर भुगतना पड़ा है। पंजाब भी हालांकि ब्रेट ली के रूप में अपने सर्वश्रेष्ठ गेंदबाज की सेवाओं से महरूम हो गया है मगर उसे चेन्नई के मुकाबले कम नुकसान हुआ है क्योंकि उसकी टीम में ऑस्ट्रेलिया अथवा किसी अन्य मजबूत टीम का कोई दूसरा स्टार खिलाड़ी शामिल नहीं है। पंजाब को चोटिल कुमार संगकारा की सेवाएं नहीं मिल सकेंगी। उन्हें एक सप्ताह के आराम की सलाह दी गई है। उसके लिए युवराज सिंह, शॉन मार्श तथा जेम्स होप्स के साथ-साथ टीम के निचले क्रम के बल्लेबाज भी अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं। इसके अलावा उसके पास इरफान पठान, शांतकुमारन श्रीसंत, विक्रम राजवीर सिंह तथा पीयूष चावला के रूप में बेहतरीन गेंदबाज भी हैं। पंजाब की पिछले लगातार पांच मैचों में जीत में टीमवर्क का असर साफ नजर आया है। ऐसे में उसे रोकना धोनी की टीम के लिए आसान नहीं होगा। दूसरी ओर हसी, हेडन और ओरम के जाने से लगे झटके से उबरकर खुद को अन्य टीमों के लिए फिर से बड़ी चुनौती के रूप में पेश करने की कोशिश में जुटे सुपर किंग्स ने अपनी रणनीति में बदलाव किया है जिसका असर दिल्ली के खिलाफ गुरुवार को हुए मैच में नजर भी आया। कप्तान धोनी ने निचले क्रम में आने के बजाय खुद को प्रोन्नत किया। उन्होंने पांचवें के बजाय तीसरे नम्बर पर बल्लेबाजी की और तेज शुरुआत के बाद रनों की रफ्तार को बरकरार रखा। उनका विशेषज्ञ बल्लेबाज एस.बद्रीनाथ को निचले क्रम पर भेजने का दांव भी ठीक बैठा जिन्होंने दिल्ली की मुट्ठी में आ चुके मैच को मनप्रीत गोनी के साथ अपनी टीम के पक्ष में करने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा की थी। चेन्नई की बल्लेबाजी अब मुख्य रूप से धोनी, रैना, एल्बी मोर्कल और बद्रीनाथ के पर निर्भर करती है जबकि गेंदबाजी का दारोमदार गोनी, मखाया एनटिनी, एल्बी मोर्कल और ऑफ स्पिनर मुथैया मुरलीधरन पर है। अब देखना यह है कि चेन्नई और पंजाब के बीच वर्चस्व की होड़ में कौन आगे निकलता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: पंजाब और चेन्नई में टॉप की होड़