DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भारतीयों पर टिकी हैं जर्मनी की नजरंे

ार्मनी में इस समय प्रशिक्षित इांीनियरों की भारी कमी हो गई है और उम्मीद की जा रही है कि वह जल्द ही इस कमी को पूरा करने के लिए भारतीय इांीनियरों को नौकरी पर रखेगा। जर्मनी के अर्थशास्त्र संस्थान द्वारा किए गए एक ताजा अध्ययन से पता चला है कि जर्मनी में इस समय करीब एक लाख इांीनियरों की जरूरत है। जर्मनी के विशेषज्ञ मानते हैं कि उनके देश में इांीनियरों की भारी कमी अमेरिकी आर्थिक मंदी और यूरो की घटती कीमत के मुकाबले कहीं ज्यादा गंभीर समस्या है। पिछले साल जर्मन कंपनी बोस्च ने भारत के 1,500 और चीन के 1,000 इांीनियर भर्ती किए थे। पिछले साल जर्मनी में 70,000 इांीनियरों के पद खाली थे। बोस्च कंपनी के सीईओ ने बताया कि अगले वर्ष उनकी कंपनी चीन और भारत में क्रमश: 23,000 और 20,000 इांीनियरों को भर्ती करगी। इसके बिना उनकी कंपनी अपना हाई टेक संचालन आगे नहीं बढ़ा सकती है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: भारतीयों पर टिकी हैं जर्मनी की नजरंे