class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

14 को शौर्य चक्र पायेगा रांची का जांबाज

श्मीर घाटी में छह विदेशी आतंकियों को ढेर करनेवाले रांची के लाल बीएसएफ के असिस्टेंट कमांडेंट अनुराग सिंह को शौर्य चक्र से सम्मानित किया जायेगा। 14 मई को राष्ट्रपति भवन में एक समारोह में राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल उन्हें शौर्य चक्र प्रदान करंगी। कश्मीर में हुई मुठभेड़ की खबर हिन्दुस्तान के 10 अक्तूबर 2007 के अंक में प्रकाशित की गयी थी। अनुराग सिंह इन दिनों रांची में हैं।ड्ढr घटना की जानकारी देते हुए उन्होंने बताया कि बीएसएफ को आर्मी के साथ अटैच किया गया था। पांच अक्तूबर को सुबह आठ बजे आर्मी को सूचना मिली कि एलओसी से लश्कर के 20 विदेशी आतंकी घुसपैठ कर रहे हैं। उनकी योजना किसी बड़ी घटना को अंजाम देने की है। अनुराग को खप्पी टॉप पहुंचने का आदेश मिला। आर्मी के पांच जवान सुरश, राजेश, सुनील, रवींद्र और नवीन को साथ लेकर वह निकल पड़े। तीन घंटे पैदल चलकर हफरुड़ा फॉरस्ट के खप्पी टाप पहुंचे।ड्ढr बर्फबारी के कारण वहां काफी ठंड थी। रात भर वे लोग एंबुस लगाये रहे, लेकिन आतंकियों की कोई हरकत नजर नहीं आयी। छह अक्तूबर की सुबह कुछ आवाज सुनाई पड़ी। सभी जवानों ने मोरचा ले लिया। 40 मीटर के फासले पर उन्होंने छह विदेशी आतंकियों को देखा। सभी एके-47 राइफलों से लैस थे। कमांडर अनुराग सिंह ने फायरिंग का आदेश दिया। आतंकियों ने भी फायरिंग शुरू कर दी। उन्होंने ग्रेनेड भी फेंका, जिससे दो जवान सुरश और राजेश शहीद हो गये। दो गोलियां अनुराग के पेट में लगीं। सुनील भी घायल हो गया। लगभग 35 मिनट की मुठभेड़ में सभी आतंकी मार गये। उनके पास से 2000 कारतूस, छह एके-47 राइफलें, 28 मैगजीन, छह जीपीएस, छह रडियो सेट, 53 ग्रेनेड, 4 किलो आरडीएक्स, एक बक्सा डेटोनेटर, छह डायरी और 61 हाार रुपये बरामद किये गये। मुठभेड़ के बाद 16 जाट बटालियन के कर्नल इंद्रजीत सिंह वहां दल-बल के साथ आये और घायलों को उपचार के लिए अस्पताल पहुंचाया ।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: 14 को शौर्य चक्र पायेगा रांची का जांबाज