class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सांसद समेत कई गिरफ्तार, रिहा

दिवंगत सांसद सुनील महतो के कदमा स्थित समाधि स्थल पर शुक्रवार को उस समय बवाल खड़ा हो गया, जब झामुमो के कुछ कार्यकर्ताओं ने चुपके से जाकर वहां मरहूम सांसद की प्रतिमा रख दी। यह सारा कुछ निषेधाज्ञा का उल्लंघन कर किया गया। इस आरोप में जमशेदपुर की सांसद सुमन महतो सहित 37 समर्थकों को गिरफ्तार किया गया। इस गिरफ्तारी से कार्यकर्ताओं का गुस्सा भड़क गया। गुस्साये कार्यकर्ताओं ने एनएच सहित अन्य जगहों पर सड़क जाम कर आवागमन बाधित कर दिया। कहीं-कहीं तोड़फोड़ भी की गयी।ड्ढr इस बीच सांसद सुमन महतो के खिलाफ धालभूम के एसडीओ रांन चौधरी ने रप केस में फंसाने की धमकी देने का आरोप लगाते हुए प्राथमिकी दर्ज करायी है। प्राथमिकी में नौ अन्य को भी अभियुक्त बनाया गया है। इसके उलट सांसद सुमन महतो ने एसपी से शिकायत की है कि कदमा थाना प्रभारी ने गलत नीयत से उनका हाथ पकड़ा और खींच कर ले जाने लगे। उनकी नीयत ठीक न थी। एसपी मामले की जांच कर रहे हैं।ड्ढr उधर जमशेदपुर के कई इलाकों में झामुमो समर्थकों ने सड़क पर उतर कर पुलिस-प्रशासन के खिलाफ जम कर नारबाजी की। गुस्साये कार्यकर्ताओं ने टायर जलाकर हंगामा किया। झामुमो के जिला सचिव सुनील महतो मीता ने कहा कि पुलिस-प्रशासन की दमनात्मक कार्रवाई के विरोध में रविवार को पूरा कोल्हान प्रमंडल बंद रखा जायेगा।ड्ढr बवाल की शुरुआत शुक्रवार की सुबह 10 बजे तब हुई, जब झामुमो के कुछ कार्यकर्ताओं ने निर्माणाधीन समाधि स्थल के बीच सुनील महतो की प्रतिमा तब रख दी, जब वहां सुरक्षा में तैनात पुलिस के जवान नहीं थे। कुछ देर बाद इसकी जानकारी कदमा पुलिस को हुई, तो वह प्रतिमा को हटाने वहां पहुंच गयी। तब तक झामुमो के कार्यकर्ता भी वहां जमा हो गये। विरोध शुरू हो गया। सूचना पाकर सांसद सुमन महतो भी वहां पहुंचीं। स्थिति की नजाकत को देखते हुए वहां भारी संख्या में पुलिस बल बुला लिया गया। रैफ की भी तैनाती कर दी गयी और वहां से नहीं हटने पर सांसद सुमन महतो, विद्युत वरण महतो समेत कई कार्यकर्ताओं को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया गया। गिरफ्तारी की खबर फैलते ही झामुमो कार्यकर्ता सड़क पर उतर आये। शाम में सभी को रिहा कर दिया गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: सांसद समेत कई गिरफ्तार, रिहा