DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एनएच के लिए दिये 21 करोड़

झारखंड में राष्ट्रीय उच्च पथों (एनएच) की हालत सुधारने के लिए केंद्र बटुआ ढीला करने लगा है। उसने फिर 21 करोड़ का आबंटन भेजा है। पिछले चार-पांच महीनों में खर्च की स्थिति और काम देखने के बाद केंद्र के इंजीनियरों ने अच्छा रुख दिखाया है। वैसे मंजूर राशि अपेक्षित नहीं, लेकिन पारदर्शिता- ईमानदारी के साथ क्वालिटी का काम हो, तो सूरत जरूर बदली जा सकती है। केंद्र ने एनएच ओरिानल फंड के रूप में 16 करोड़, स्पेशल रिपेयर के लिए 16.67 लाख, ओआर (साधारण मरम्मत) के लिए 1.31 करोड़, एफडीआर (बाढ़ क्षतिग्रस्त) के लिए 1.25 करोड़ और पीआर (सावधीकरण मरम्मत) के लिए 1.63 करोड़ का आबंटन भेजा है। एफडीआर में और ढाई करोड़ मिलने हैं। पिछले साल झारखंड ने एफडीआर का पैसा खर्च नहीं किया था। अब बरसात से पहले सड़कों को ठीक करने की चुनौती राज्य के इंजीनियरों पर है। ताकि बीच बरसात में सड़कों की दुर्दशा नहीं हो। चीफ इंजीनियर विष्णु राम इस काम में जुटे हैं। समीक्षा बैठक करने के साथ सीइ ने कई डिवीजन में काम का जायजा लिया है। अब टीम के साथ एनएच 33 को देखेंगे। विभागीय सचिव की भी नजर है। इस वर्ष वार्षिक प्लान के रूप में केंद्र ने 173 करोड़ की मंजूरी दी है। वार्षिक प्लान में चीफ इंजीनियर ने सभी इइ से मई तक इस्टीमेट का काम हर हाल में पूरा करने को कहा है।ड्ढr जितनी योजनाओं पर इस्टीमेट तैयार है, उसकी स्क्रूटनी की जा रही है। तीन महीने पहले विशेष पैकेा के रूप में केंद्र ने 85 करोड़ की योजनाओं पर स्वीकृति दी थी। कई योजनाओं पर काम धीमा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: एनएच के लिए दिये 21 करोड़