DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कामोत्तेजना के लिए यूरोपियों में मादक द्रव्य की लत

यूरोप के युवा वर्ग में यौन उत्तेजना बढ़ाने के लिए शराब और मादक पदार्थो के सेवन की लत बढ़ रही है। रात्रि क्लबों में खाक छानने वाले 13 सौ युवाआें पर किए शोध से यह तथ्य सामने आया है कि 16 से 35 साल तक के एक तिहाई पुरूष और एक चौथाई महिलाएं अपनी कामोत्तेजना को बढ़ाने के लिए शराब का सहारा लेती हैं। इसके अलावा देर तक रति क्रिया में संलग्न रहने की इच्छा के चलते वे कोकीन, कनाबिस आदि मादक पदार्थो का भी सेवन करते हैं। शोध के अनुसार लगभग सभी लोंगो न शराब सेवन करने को स्वीकार किया। इन्होंने बताया कि वे जब केवल 14 या 15 साल के ही थे तब तक वह सोमरस का स्वाद ले चुके थे। तीन चौथाई लोगांे ने माना कि इस उम्र तक उन्होंने कनाबिस का आनंद उठा लिया था और लगभग 30 प्रतिशत लोगांे ने स्वीकार किया कि इस उम्र की दहलीज पर आने तक कोकीन का नशा उनके शरीर मंे उतर चुका था। इनमें से अधिकतर लोग मानते थे कि शराब और मादक पदार्थ उन्हें रति क्रिया में सहयोग देते हैं। शोध का निष्कर्ष है कि नशे की हालत खतरा उठाने के व्यवहार से जुड़ी हुई है तथा इससे पहल करने में मदद मिलती है और यौन क्रिया से जुड़े पहलुआें पर शर्मिन्दगी से बचने में भी सहायता मिल जाती है। मिसाल के लिए यदि एक यूरोपीय व्यक्ित ने चार सप्ताह पहले से शराब पीता आ रहा है तो वह यौन क्रिया के लिए पांच से अधिक सहयोगियों के साथ यौन संबंध स्थापित करने के बारे में सोचने से गुरेज नहीं करेगा न ही वह इस बात की परवाह नहीं करेगा कि उसने गर्भनिरोध उपायों का प्रयोग किया है या नहीं। ऐसे लोग जिनकी उम्र ने अभी केवल 16 बसंत देखे हैं और वे शराब और मादक पदार्थो का प्रयोग कर रहे हैं, उनमें यौन उत्तेजना का स्तर उनकी उम्र से कहीं अधिक देखा गया है। वे अपनी उम्र से अधिक का यौन व्यवहार कर रहें हैं। यह खासकर लड़कियों के लिए देखा गया है। अगर लड़कियां शराब और मादक तत्वों का सेवन कर रहीं है तो उन्होंने किशोरावस्था की इस उम्र पर ही कम से कम चार बार काम क्रीडा में भाग ले लिया होता है। यह शोध निष्कर्ष बीएमसी पब्लिक हेल्थ जरनल में प्रकाशित किए गए हैं।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: कामोत्तेजना के लिए यूरोपियों में मादक द्रव्य की लत