DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अब हर पंचायत में गोदाम खुलेगा

अब हर पंचायत में एक गोदाम होगा। इसके लिए सरकार ने समेकित सहकारी विकास परियोजना को अमली जामा पहनाने का निर्णय किया है। पंचायत स्तर पर स्थापित होने वाले पैक्सों में एक सौ टन के गोदाम बनेंगे तो प्रखंड स्तर पर के व्यापार मंडलों में ढाई सौ टन की क्षमता वाले गोदाम बनाने का निणर्य लिया गया है। ढाई सौ टन के 44 पुराने गोदामों के जीर्णोद्धार की भी कार्रवाई शुरू की जा रही है।ड्ढr ड्ढr सरकार की योजना चालू वर्ष में सहकारी समितियों के लिए गोदामों की संख्या 2200 करने की है। सहकारी विकास परियोजना में चयनित समितियों को व्यवसाय के लिए मार्जिन मनी देने की प्रक्रिया तेज कर दी गयी है। सहकारिता मंत्री गिरिराज सिंह ने कहा कि गोपालगंज, मधुबनी, गया, सीतामढ़ी, भोजपुर, छपरा एवं सीवान समेत सात जिलों में 51 व्यापार मंडलों के लिए ढाई सौ टन की क्षमता वाले गोदाम बनाने का निर्ण्य लिया गया है। 738 पैक्सों के लिए एक सौ टन के गोदाम का निर्माण भी शुरू किया जा रहा है। इसके अलावा ढाई सौ टन के 44 पुराने गोदामों के जीर्णोद्धार की भी व्यवस्था की जा रही है।ड्ढr ड्ढr श्री सिंह ने बताया कि मार्च माह तक सरकार ने एक सौ टन के लगभग छह सौ गोदामों का निर्माण करा लिया है। शेष गोदामों के निर्माण कार्य को भी तेजी से पूरा करने का निर्देश दिया गया है। मंत्री ने बताया कि सभी गोदामों का निर्माण पूरा हो जाने पर इन प्ैाक्सों को व्यापार करने में कोई परशानी नहीं होगी। सरकार का उद्देश्य इन समितियों के माध्यम से अधिप्राप्ति के अलावा खाद और बीज के व्यवसाय को तेज करना है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: अब हर पंचायत में गोदाम खुलेगा