DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

थाली से गायब हो रहा आलू

सब्जियों का राजा आलू आम लोगों की थाली से गायब हो रहा है। अमीर भी मुश्किल से आलू खा रहे हैं। फिलहाल आलू का भाव बढ़कर 11 से 12 रुपए किलो एवं 54 से 56 रुपए पसेरी (पांच किलो) हो गया है, जबकि एक महीने पूर्व आलू की कीमत 7 रुपए किलो एवं 32 से 34 रुपए पसेरी थी। थोक मंडी में लाल आलू की कीमत 0 एवं सफेद आलू की कीमत 850 रुपए क्िवंटल हो गई है। माना जा रहा है कि अगले कुछ दिनों में आलू की कीमत में और बढ़ोतरी होगी।ड्ढr ड्ढr पाला ने इस वर्ष आलू की 80 प्रतिशत फसल को बर्बाद कर दिया है। बाजार में स्थिति यह है कि मांग की अपेक्षा आपूर्ति काफी घट गई है। जानकारों का कहना है कि पटना एवं उसके आसपास के इलाकों में प्रतिदिन 150 टन आलू की खपत है। फिलहाल आलू की आपूर्ति घटकर लगभग 80 से 100 टन के आसपास हो गई है। यही कारण है कि पिछले एक महीने में आलू की कीमत में लगभग 50 प्रतिशत की उछाल आयी है। इधर कई बड़े व्यापारियों अधिक मुनाफा के चक्कर में अभी से ही अपने गोदाम में स्टॉक करना शुरू कर दिया है।ड्ढr ड्ढr मुजफ्फरपुर के किसान अमर बिहारी ठाकुर ने बताया कि आलू की सबसे अच्छी फसल मुजफ्फरपुर इलाके में होती है। पर इस बार पिछात झुलसा के कारण लगभग 80 प्रतिशत फसल बर्बाद हो गई। तिरहुत प्रमंडल के कई किसान तो बर्बाद हो गए। भोजपुर के किसान श्री सत्य नारायण राय एवं भीम राज राय ने बताया कि भोजपुर इलाके में भी आलू की लगभग 70 से 75 प्रतिशत फसल बर्बाद हो गई है। शुरू की फसल तो निकल गयी, पर नवम्बर में जो मुख्य फसल लगी उसमें अधिकतर फसल बीमारी लगने से नष्ट हो गई। समय पर दवा का भी छिड़काव किया गया पर वह भी बेकार हो गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: थाली से गायब हो रहा आलू