DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

निगरानी ब्यूरो का कार्यालय दुमका में

एनोस के खिलाफ सीबीआइ जांच हो अजय शर्मा रांची भाजपा के दो दर्जन विधायकों ने तेली समाज के नेता तिलेश्वर साहू के पिता की हत्या में नामजद मंत्री एनोस एक्का के खिलाफ सीबीआइ जांच की मांग की है। विधायकों ने इस संबंध में गृह विभाग को एक पत्र भी लिखा है। पत्र में सिमडेगा पुलिस पर इस मामले में कई गंभीर आरोप लगाये गये हैं। कहा गया है कि मंत्री के दबाव में इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं हो रही है। तिलेश्वर साहू के पिता गजेंद्र साहू की 16 अप्रैल के कामडारा थाना क्षेत्र के जामडीह गांव में की गयी थी। इस संबंध में तिलेश्वर साहु की मां रुक्िमणी देवी के बयान पर मंत्री एनोस एक्का, दीप नारायण सिंह, लक्ष्मण सिंह, देव नाथ बड़ाइक, हरि रवि, रवि सिंह और योगेंद्र सिंह के विरुद्ध मामला दर्ज कराया गया है। हालांकि मंत्री इस मामले में अंतर्लिप्त होने से इनकार करते हैं। वे पहले ही कह चुके हैं कि बुजुर्ग की हत्या के बाद उनके नाम को उछाल कर छवि धूमिल करने की कोशिश की जा रही है। हरदिल अजीज शमीम भाई नहीं रहेवरीय संवाददाता रांची रांची में फोटो जर्नलिज्म के क्षेत्र में ढाई दशक तक अपनी काबिलीयत का लोहा मनवानेवाले शमीम भाई नहीं रहे। छायाकार के साथ-साथ समाज सेवक के रूप में उन्होंने अपनी पहचान बनायी थी। शमीम भाई दैनिक आज के स्टाफ फोटोग्राफर थे। उन्होंने विषम परिस्थितियों में अपनी डय़ूटी निभायी। शमीम भाई पिछले एक साल से कैंसर से पीड़ित थे। मुंबई स्थित कैंसर अस्पताल में उनका ऑपरशन भी हुआ था। पिछले कई दिनों से वह अपने हुलहुंडू स्थित आवास पर ही आराम कर रहे थे। दस मई को तड़के तीन बजे उन्होंने अंतिम सांस ली। वह अपने पीछे एक पुत्र व दो पुत्री सहित भरा-पूरा परिवार छोड़ गये हैं। शाम पांच बजे हुलहुंडू स्थित कब्रगाह में मिट्टी की रस्म अदा की गयी। मुख्यमंत्री मधु कोड़ा एवं केंद्रीय मंत्री सुबोधकांत सहाय ने भी छायाकार शमीम भाई के निधन पर गहरा शोक प्रकट किया है। शोक संदेश में उन्होंने कहा है कि शमीम भाई के निधन से उन्हें व्यक्ितगत क्षति हुई है। शमीम भाई के निधन की सूचना मिलने के बाद पत्रकार जगत के कई लोग उनके आवास पर पहुंचे। चोरी के 11 दोपहियों के साथ चार धरायेसंवाददाता रांची रांची पुलिस ने राजधानी में मोटरसाइकिलों की चोरी करनेवाले गिरोह का खुलासा किया है। पुलिस ने गिरोह के सरगना देवानंद थापा उर्फ अभिषेक समेत चार अपराधियों किशन कुमार वर्मा, गुलाब चंद्र प्रसाद, सदानंद सुतार को गिरफ्तार किया है। इनके पास से अलग-अलग स्थान से उड़ायी गयी 11 मोटरसाइकिल बरामद की गयी है। देवानंद इसी तरह के मामले में पहले भी जेल जा चुका है। वह सदर के कोकर बाजार देवी मंडप मार्ग का रहनेवाला है। किशर न्यू नगर ओर गुलाबचंद प्रसाद कोकर के हैदर अली रोड का निवासी है। एसएसपी एमएस भाटिया ने शनिवार को रांची पुलिस ऑफिस सभागार में पत्रकारों को यह जानकारी दी। सिटी डीएसपी महेश राम पासवान के नेतृत्व में गठित टीम ने इस गिरोह का खुलासा किया। टीम में लालपुर प्रभारी रणधीर कुमार, एसआइ बीडी चौधरी को शामिल किया गया था। नगर निगमकर्मियों ने एसीपी लाभ के साथ मांगा मार्च-अप्रैल का वेतन कल से बेमियादी हड़तालसंवाददाता रांची रांची नगर निगम कर्मचारी संघ और सफाई कर्मचारी संघ की संयुक्त बैठक शनिवार को निगम कार्यालय में हुई। इसकी अध्यक्षता अध्यक्ष अवध बिहारी तिवारी ने की। इसमें निर्णय लिया गया कि अगर निगम प्रशासन कर्मियों को एसीपी के लाभ के साथ मार्च और अप्रैल का वेतन नहीं देता, तो वे 12 मई से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले जायेंगे। संघ के महामंत्री सुधीर वर्मा ने कहा कि अगर निगम प्रशासन 12 मई को कर्मचारियों को एसीपी का लाभ दे देता है, तो हड़ताल वापस ले ली जायेगी। बैठक में बताया गया कि सीइओ के आश्वासन के बावजूद पिछले छह महीने से कर्मचारियों की मांगें पूरी नहीं की गयी हैं। उनकी मांगों को लेकर न तो सरकार गंभीर है और न ही निगम प्रशासन। बाध्य होकर संघ हड़ताल पर जाने को विवश है। वर्मा ने बताया कि मेयर रमा खलखो और डिप्टी मेयर अजयनाथ शाहदेव को भी 13 सूत्री मांग पत्र सौंपा गया है। बावजूद इसके इस दिशा में कोई कार्रवाई नहीं की गयी। हड़ताल की सूचना बोर्ड और निगम प्रशासन को पहले ही दे दी गयी है। उन्होंने कहा कि हड़ताल के दौरान साफ-सफाई से लेकर सभी कामकाज ठप रहेंगे। कोई कर्मचारी काम नहीं करगा। इधर नगर निगम सफाई कर्मचारी संघ के बैनर तले 10 मई को कर्मचारियों ने निगम मुख्यालय के समक्ष प्रदर्शन किया। कर्मचारियों ने निगम प्रशासन के खिलाफ जम कर नारबाजी की। प्रदर्शन करनेवालों में महिला सफाईकर्मी भी शामिल थीं। कर्मियों की मांगें : सेवानिवृत्त कर्मचारियों को पेंशन की सुविधा मिले, दैनिक कर्मियों को स्थायी किया जाये और एक जनवरी से बकाये वेतन का भुगतान हो। निगरानी ब्यूरो राज्य में अपना दूसरा कार्यालय दुमका में खोल रह रहा है। इस कार्यालय में एसपी, डीएसपी, इंस्पेक्टर, सब इंस्पेक्टर रैंक के अधिकारी बैठेंगे। भ्रष्टाचार संबंधी जितने भी मामले आयेंगे, उनका सुपरवीजन एसपी करंगे। कार्यालय का कार्यक्षेत्र दुमका, गोड्डा, देवघर, जामताड़ा, साहेबगंज रहेगा। इन क्षेत्रों को मिला कर एक जोन बनाया जायेगा ताकि इन सभी जिलों में जितने भी भ्रष्टाचार संबंधी मामले आते हैं, उनका निबटारा जल्द किया जा सके। इन सभी क्षेत्रों से जितनी भी शिकायतें आती थीं, उसके सत्यापन में काफी समय लग जाता था। तब तक भ्रष्ट अधिकारियों को इसकी भनक भी लग जाती थी। ऐसे कितने मामले आये हैं, जिसमें निगरानी ब्यूरो को छापामारी में अस्फलता मिली। निगरानी इन दिनों अधिकारियों की कमी झेल रहा है। इस संबंध में मुख्यालय से कई अधिकारी मांगे गये हैं। इस संबंध में डीजी निगरानी नेयाज अहमद ने कहा कि दूसरा कार्यालय दुमका में खुलेगा ताकि दूर-दराज के क्षेत्रों के मामलों का निबटारा जल्द किया जा सके।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: निगरानी ब्यूरो का कार्यालय दुमका में