अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चााँच में खर नहीं उतर इंचोक्शन

एक प्रतिष्ठित दवा कम्पनी के कैल्शियम युक्त विटामिन-सी के इंोक्शन जाँच में घटिया पाए गए हैं। इस इंोक्शन का प्रयोग गर्भवती महिलाओं या हड्डी के मरीाों पर किया जाता है। औषधि नियंत्रक ने कम्पनी के इंोक्शन के नमूने जाँच के लिए कोलकाता स्थित सेंट्रल ड्रग लेबोरटरी भेजे थे। जाँच रिपोर्ट मिलने के बाद राज्य के ड्रग कंट्रोलर एके पाण्डेय ने कम्पनी के खिलाफ कार्रवाई के लिए नोटिस जारी कर संबंधित बैच की बिक्री पर रोक लगा दी है।ड्ढr पटना की राठी लेबोरटरी कैल्शियम युक्त विटामिन सी इंोक्शन का निर्माण करती है। गर्भवती महिलाओं में एनीमिया या कमजोरी होने पर जब टेबलेट से काम नहीं चलता तो यह इंोक्शन दिया जाता है। हीमोग्लोबिन बढ़ाने और हड्डी टूटने की स्थिति में भी यह इंोक्शन दिया जाता है लेकिन राठी लेबोरटरी द्वारा जो इंोक्शन बाजार में बेचे जा रहे हैं वह घटिया किस्म के हैं। रायबरली के औषधि निरीक्षक ने पिछले दिनों इस इंोक्शन के नमूने जाँच के लिए कोलकाता की सेंट्रल ड्रग लेबोरटरी भेजे थे। जाँच में नमूने घटिया निकले। औषधि निरीक्षक की रिपोर्ट के बाद राज्य के ड्रग कंट्रोलर एके पाण्डेय ने प्रदेश भर में संबंधित बैच-बीसी 30, निर्माण तिथि अप्रैल 2007 के इंोक्शनों को बेचे जाने पर रोक लगा दी है। ड्रग कंट्रोलर ने कम्पनी को नोटिस जारी करने के साथ ही उन डीलरों की सूची भी माँगी है जहाँ आपूर्ति की गई है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: चााँच में खर नहीं उतर इंचोक्शन