DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अजरुन सिंह ने हथियार डाले

ांग्रेस के वरिष्ठ नेता व केन्द्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री अजरुन सिंह ने पुस्तक मोंहि कहां विश्राम से उठे विवाद पर अफसोस व्यक्त करते हुए कहा कि वह जीवन पर्यन्त श्रीमती सोनिया गांधी और राहुल गांधी के प्रति पूर्ण निष्ठा बनाए रखेंगे। पुस्तक के लोकार्पण समारोह में पार्टी में वफादारी के सवाल पर उनकी टिप्पणियों तथा पुस्तक में एक साक्षात्कार में कांग्रेस में निर्णय लेने की प्रक्रिया में विखराव को लेकर सिंह की पार्टी में आलोचना शुरू हो गई है। सिंह ने रविवार को यहां एक बयान जारी करके कहा-पुस्तक के बारे में अनर्गल एवं बेतुका विवाद उठाए जाने से मुझे बेहद तकलीफ हुई हैं।ड्ढr ड्ढr मार्च 10 में मैंने पडित जवाहर लाल नेहरू और उनके परिवार को अपनी सम्पूर्ण वफादारी का वचन दिया था जिसका मैंने जीवन के 48 वर्षों में पूरी निष्ठा से पालन किया है। उन्होंने कहा कि मैं नेहरू-गांधी परिवार के अन्य सदस्यों के प्रति भी इस निष्ठा को जीवन पर्यंत बनाए रखूंगा। विवाद का पटाक्षेप करने का प्रयास करते हुए सिंह ने कहा- मैं इस बारे में किसी से उलझना नहीं चाहता और मैं अपने उन साथियों के विचारों का आदर करता हूं जिन्होंने इस मामले में टिप्पणी करना उचित समझा है। उन्होंने कहा कि इस मामले में अब वह किसी प्रश्न का उत्तर देने में असमर्थ हैं तथा इस अध्याय को यही विराम दे रहे हैं। मोंहि कहां विश्राम पुस्तक के बारे में उन्होंने स्पष्ट किया कि वह उनकी आत्मकथा नहीं है बल्कि समय-समय पर लिखे गए लेखों का संग्रह है। उन्होंने कहा कि वह अपनी आत्मकथा लिख रहे हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: अजरुन सिंह ने हथियार डाले