DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

माओवादी प्रमोद मिश्र गिरफ्तार

झारखंड व बिहार के मोस्ट वांटेड तीन लाख के इनामी भाकपा माओवादी के शीर्ष नेता प्रमोद मिश्र को झारखंड पुलिस की एसटीएफ ने धनबाद के विनोद नगर में शनिवार की रात को धर दबोचा। पोलित ब्यूरो के सदस्य प्रमोद मिश्र उर्फ प्रमोद पंडित उर्फ बन बिहारी उर्फ बीबीजी बिनोद नगर में अपने रिश्तेदार के यहां पनाह लिये हुए थे। राज्य मुख्यालय से एसटीएफ की विशेष टीम आयी और प्रमोद को गिरफ्तार कर ले गयी लेकिन धनबाद पुलिस को इसकी भनक तक नहीं लगी। कभी बिहार में अपनी सक्रियता से पुलिस को नाकोदम करने वाले प्रमोद अभी झारखंड में संगठनात्मक कार्य देख रहे थे। औरंगाबाद जिले के रफीगंज थाना अंतगर्त कसमा गांव निवासी प्रमोद पहले गया एरिया के जोनल कमांडर थे। बाद में उन्हें बिहार-यूपी स्पेशल एरिया का चार्ज दिया गया।ड्ढr ड्ढr प्रमोद मिश्र की गिरफ्तारी से पुलिस ने राहत की सांस ली है। सबसे ज्यादा राहत तो औरंगाबाद जिले के कसमा थाना पुलिस को मिली है जो प्रमोद मिश्र का गृह थाना है और थाने से महा दो सौ मीटर दूर ही उनका घर है। कसमा थाने में इस नक्सली नेता के खिलाफ हत्या, हत्या का प्रयास, अपहरण, शस्त्र अधिनियम वारंट पेंडिंग हैं।ड्ढr दरअसल सीपीएम से अलग होकर चारू मजूमदार ने 1में भाकपा (माले) का गठन किया था। उस वक्त कन्हाई चटर्ाी उनके साथ थे। बाद में उन्होंने अलग हो कर एमसीसी का गठन किया। इसी दौरान पिता के सार्वजनिक अपमान से चिढ़ कर प्रमोद मिश्र संगठन से जुड़े। 1में एमसीसी की सक्रियता बिहार में देखी गई और तब से निरंतर एमसीसी का प्रभाव विस्तार होता गया। बाद में पीपुल्स वार ग्रुप से जुड़ कर भाकपा माओ का निर्माण हुआ। माना जाता है कि प्रमोद मिश्र न केवल भाकपा माओ के नीति नियंता रहे हैं बल्कि उसकी केन्द्रीय कमेटी के सदस्य तथा बिहार झारखंड के प्रभारी भी रहे हैं।ड्ढr कसमा थाना प्रभारी रामचन्द्र सिंह के अनुसार 1से भूमिगत प्रमोद मिश्र पर कसमा थाने में नौ स्थाई वारंट लंबित पड़े हैं। इनमें मदनपुर थाना कांड संख्या 7487 (हत्या, शस्त्र अधिनियम, हत्या का प्रयास), कसमा थाना कांड संख्या 6287 (लूट), कसमा कांड सं. 1288 (हत्या, हत्या का प्रयास, शस्त्र अधिनियम), कसमा कांड सं. 1487 (हत्या का प्रयास, हमला, शस्त्र अधिनियम), गोह थाना कांड संख्या 87अपहरण), औरंगाबाद मुफस्सिल कांड संख्या 33786 (हत्या एवं शस्त्र अधिनियम), टेकारी थाना कांड सं. 7थाने की लूट, हत्या, हत्या का प्रयास, शस्त्र एवं विस्फोटक अधिनियम), रफीगंज थाना कांड सं. 8हमला व शस्त्र अधिनियम) तथा गोह थाना कांड सं. 115लूट, अपहरण) के मामले शामिल हैं। इनके तामिले के लिए पुलिस हर महीने उनके घर पर दबिश देती रही है तथा कई बार घर की कुर्की जब्ती भी की गई है। दूसरी ओर पुलिस को यह आशंका है कि भाकपा माओ इस गिरफ्तारी के विरुद्ध कोई प्रतिक्रियात्मक कार्रवाई कर सकती है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: माओवादी प्रमोद मिश्र गिरफ्तार