अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कर्नाटक में मुख्यमंत्रियों के बोझ से दबी कांग्रेस

र्नाटक में चुनाव चल रहे हैं। मुख्य रूप से 3 पार्टियां सत्ता की दावेदार हैं। कांग्रेस, भाजपा और जनता दल (एस)। तीनों ही पार्टियों के पास लंबे समय से सक्रिय पुराने नेता हैं। सबकी व्यक्ितगत और पार्टीगत पसंद-नापसंद है और एक-दूसर के बार में जुदा रवैया। तीनों ही पार्टियों में ऐसे कलाकार नेता हैं जो चुनावी गणित पर असर डाल सकते हैं। कांग्रेस ने यहां बरसों तक निर्बाध राज किया है। नेता भी उसी के पास ज्यादा हैं। कई मुख्यमंत्री पद के दावेदार हैं। इसीलिए पार्टी ने अब तक अपने इस पद के उम्मीदवार का नाम उाागर नहीं किया है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकाजरुन खड़गे को उम्मीद है कि अगर पार्टी ने बाजी मार ली तो वे सबकी पंसद होंगे। हालांकि खड़गे आक्रामक नहीं हैं, चैनलों पर भी उनकी बॉडी लैंग्वेज नकारात्मक ही दिखती है और घुटने से चोटिल खड़गे को देखकर लगता नहीं कि वे मुख्यमंत्री पद के दावेदार हैं। इतना जरूर है कि जमीन से उठा यह दलित नेता 12 बार आरक्षित सीट से जीत चुका है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: कर्नाटक में मुख्यमंत्रियों के बोझ से दबी कांग्रेस