class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मरीज की मौत के बाद आईचाीआईएमएस में तोड़फोड़, हंगामा

सोमवार की दोपहर राजधानी के प्रसिद्ध अस्पताल आईाीआईएमएस में रोगी कैलाशपति देवी (73) की मौत हो जाने पर उनके परिानों ने अस्पताल परिसर में जमकर तोड़फोड़ तथा हंगामा किया। डाक्टरों की लापरवाही के बाद दोपहर में हुई मौत के बाद गुस्साए लोगों ने इस अस्पताल के निदेशक डा. ए. के. सिंह के वाहन को भी निशाना बनाया। स्थिति पर काबू पाने के लिए जब शास्त्रीनगर थानाध्यक्ष कामोद प्रसाद वहां पहुंचे तो उन्हें भी मुंह की खानी पड़ी। लोगों ने उनके साथ र्दुव्‍यवहार किया।ड्ढr ड्ढr थानाध्यक्ष के साथ बदतमीजी के बाद बौखलाई एयरपोर्ट, राजीवनगर थाने की पुलिस ने घटनास्थल पर पहुंचकर उग्र भीड़ पर जमकर लाठियां चटकाई जिससे आधा दर्जन से अधिक लोग घायल हो गए। इसका अंदाजा इस बात ये लगाया जा सकता है कि पुलिस को वहां पर रैफ के साथ-साथ अतिरिक्त बल बुलानी पड़ी। दोपहर में हुई इस घटना के वक्त अस्पताल परिसर रणक्षेत्र में बदल गया। इस दौरान लोगों ने अस्पताल में लगे कई शीशे तोड़ डाले। कुछ मरीा के परिान तथा मौजूद डाक्टर जान बचाने के लिए इधर-उधर भागने लगे। हालांकि पुलिस ने मामले की तह तक जाने के लिए मृतक कैलाशपति के दो पुत्र कमलेश, जगदीश तथा पुत्री सुरांना सिंह को हिरासत में ले लिया है। शास्त्रीनगर थाने में सचिवालय डीएसपी श्रीधर मंडल ने इन तीनों से सघन पूछताछ की । इधर अस्पताल के निदेशक डा. ए.के. सिंह ने बताया कि इस घटना को लेकर जांच कमेटी का गठन किया गया है। कमेटी के रिपोर्ट में जो भी दोषी पाए जाएंगे उनपर कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि उसकी किडनी तथा हार्ट पहले ही फेल हो चुका था। उन्होंने कहा कि मृत्यु के एक घंटा के बाद मृतक के परिानों ने तोड़फोड़ की। हालांकि पुलिस अधिकारी से इस घटना के बार में पूछा गया पर उनसे सम्पर्क नहीं हो सका।ड्ढr ड्ढr सूत्रों ने बताया कि सीवान की रहने वाली कैलाशपति की किडनी की शिकायत होने पर उसे 7 मई को अस्पताल के प्राइवेट वार्ड में भर्ती कराया था। मृतक के परिानों ने बताया कि रविवार की देर रात उनकी तबियत एकाएक बिगड़ गई। पहले उसे इमेरोंसी वार्ड में भर्ती किया गया उसके बाद भी हालत में सुधार नहीं हुआ तो उन्हें आईसीयू में रख गया। सोमवार की दोपहर उनकी तबियत और बिगड़ गई। मौजूद चिकित्सकों ने कैलाशपति के परिानों को खून लाने को कहा। परशान परिान थोड़ी देर बाद खून भी ले आए। खून के बोतल को जब चढ़ाने के लिए चिकित्सकों से कहा गया तो डाक्टरों ने आने में देर कर दी। इसी बीच उनकी मौत हो गई। फिर उसके बाद अस्पताल परिसर रणक्षेत्र में तब्दील हो गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: मरीज की मौत के बाद आईचाीआईएमएस में तोड़फोड़, हंगामा