class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सेंसेक्स 108 अंक और निफ्टी 55 अंक टूटे

देश के शेयर बाजारों में मंगलवार को ऑयल ऐंड गैस, आईटी, कैपीटल गुड्स और ऑटोमोबाईल कंपनियों के शेयरों में बिकवाली का दबाव रहने से गिरावट का रुख रहा। बम्बई शेयर बाजार (बीएसई) का सेंसेक्स 108 अंक तथा नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का निफ्टी 55 अंक टूट गए। सत्र की शुरुआत में बाजार कुछ मजबूत लग रहा था, किंतु कारोबार बढ़ने के साथ ही इसमें गिरावट का रुख नजर आने लगा। बाजार में इस अफवाह के तेजी से फैलने से कि वामपंथी दल केन्द्र की संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) सरकार से समर्थन वापस ले रहे हैं, एकाएक बिकवाली का रुख बन गया। अमेरिका के शेयर बाजारों में गत दिवस गिरावट का रुख था। एशियाई शेयर बाजारों में चीन का शंघाई कम्पोजिट सूचकांक नीचा और हांगकांग का हैंगसैंग ऊपर रहा। जापान का निक्केई भी 1.6 प्रतिशत मजबूत था, किंतु इसका फायदा सेंसेक्स और निफ्टी नहीं उठा पाए। इस वर्ष मार्च के दौरान देश के औद्योगिक उत्पादन सूचकांक में पिछले छह वर्ष की सबसे कम मात्र तीन प्रतिशत बढ़ोतरी के समाचारों का असर भी बताया गया। सत्र की शुरुआत में सेंसेक्स सोमवार के 16860.0 अंक की तुलना में करीब 150 अंक ऊपर 17008.03 अंक पर खुला और ऊंचे में 17085.63 अंक तक चढ़ने के बाद बिकवाली की गिरफ्त में आने से घटकर नीचे में 166अंक तक आया। इसके बाद करीब 55 अंक सुधरा और समाप्ति पर कुल 108.04 अंक अर्थात 0.64 प्रतिशत के नुकसान से 16752.86 अंक पर बंद हुआ। एनएसई का निफ्टी 5008.60 अंक पर खुलने के बाद ऊपर में 5066 तथा 4अंक तक चढ़ने के बाद समाप्ति पर कुल 1.0प्रतिशत अथवा 54.85 अंक के नुकसान से 40 अंक रह गया। सेंसेक्स और निफ्टी में गिरावट के बावजूद इनके मझौली कंपनियों के शेयर ऊपर रहे। बीएसई का मिडकैप 10.0 अंक और निफ्टी मिडकैप 0.25 प्रतिशत ऊपर रहा। बीएसई का लघु कंपनियों का सूचकांक 5.85 अंक नीचा रहा। इसके अन्य सूचकांकों में ऑयल ऐंड गैस को सबसे अधिक 286.32 अंक का झटका लगा। ऑटो, कैपीटल गुड्स और ऑटोमोबाईल कंपनियों के सूचकांक भी बीएसई में नुकसान में रहे जबकि बैंकेक्स, एफएमसीजी और रियलटी में सुधार था। सेंसेक्स और निफ्टी में सोमवार को पांच दिन की लगातार गिरावट के बाद तेजी आई थी। मझौली कंपनियों को मिले समर्थन से बीएसई का रुख सकारात्मक रहा। सत्र में कुल 2784 कंपनियों के शेयरों में लेनदेन हुआ और इसमें से 50.65 प्रतिशत अर्थात 1410 लाभ 1305 अथवा 46.88 प्रतिशत नुकसान में रहे। मात्र 6ंपनियों के शेयरों में कोई घटबढ़ नहीं थी। सेंसेक्स की तीस कंपनियों में 11 फायदे, 18 नुकसान और एक में स्थिरता थी। सेंसेक्स में सर्वाधिक गिरावट तेल कंपनी आेएनजीसी के शेयर में 3.08 प्रतिशत की रही। इसका शेयर 31.70 रुपये के नुकसान से 0 रुपये पर बंद हुआ। सीमेंट कंपनी एसीसी में 683 रुपये पर 2.66 प्रतिशत अर्थात 18.65 रुपये निकल गए। आईटी कंपनियों में विप्रो में 2.66 तथा टीसीएस को 2.33 प्रतिशत का घाटा हुआ। सर्वाधिक भारांक वाली रिलायंस इंडस्ट्रीज का शेयर 2.08 प्रतिशत अर्थात 53.05 प्रतिशत के नुकसान से 2501.45 रुपये रह गया। भारती एयरटेल, रैनबैक्सी लैबोरेट्रीज, ग्रासिम इंडस्ट्रीज, एचडीएफसी, इन्फोसिस टेकनोलोजीस, डीएलएफ, रिलायंस कम्युनीकेशंस, एल ऐंड टी, हिन्दुस्तान यूनीलीवर, भेल, टाटा मोटर्स, सिप्ला लिमिटेड और मारुतिसुजुकी के शेयर भी घाटे में रहे। फायदे वाली सूची में हिंडाल्को इंडस्ट्रीज के शेयर में सर्वाधिक 2.83 प्रतिशत अर्थात 4.पये का सुधार हुआ। कंपनी का शेयर 17पये पर बंद हुआ। जयप्रकाश एसोसिएट्स, रिलायंस एनर्जी, सत्यम कंप्यूटर, आईसीआईसीआई बैंक, टाटा स्टील, आईटीसी लिमिटेड, एचडीएफसी बैंक, महिन्द्रा ऐंड महिन्द्रा, अम्बूजा सीमेंट और एबीआई के शेयर भी फायदे में रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: सेंसेक्स 108 अंक और निफ्टी 55 अंक टूटे