class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पीएमएल-एन की वापसी का इंतजार : जरदारी

पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन) के पाकिस्तान में सत्तारूढ गठबंधन से अलग होने के फैसले के बावजूद पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) के सह अध्यक्ष आसिफ अली जरदारी ने कहा है कि उनकी पार्टी पंजाब में पीएमएल-एन सरकार को समर्थन जारी रखेगी और संघीय सरकार के इस्तीफा देने वाले पीएमएल-एन मंत्रियों की जगह नए मंत्री नहीं बनाए जाएंगे। जरदारी ने कहा कि पीपीपी के समर्थन के बिना पंजाब सरकार नहीं चल सकती। उन्होंने कहा कि केंद्रीय मंत्रिमंडल में वह पीएमएल-एन के मित्रों की वापसी का इंतजार करेंगे। उन्होंने कहा कि पीएमएल-एन के मंत्रियों के इस्तीफे के कारण रिक्त हुई सीटें रिक्त ही रहेंगी। जरदारी ने कहा कि राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ के खिलाफ महाभियोग दो तिहाई बहुमत पाने के बाद ही संभव है। उन्होंने कहा कि पीएमएल-क्यू से समर्थन पाने के इच्छुक नहीं। पाकिस्तानी समाचार पत्र दि न्यूज के मुताबिक, इस बीच पीपीपी प्रवक्ता फरहतुल्ला बाबर ने कहा कि पीएमएल-एन का केंद्रीय मंत्रिमंडल से इस्तीफा न्यायाधीशों की बहाली और संसद के सशक्ितकरण की प्रक्रिया में अल्प विराम है पूर्ण विराम नहीं। उन्होंने कहा कि पीएमएल-एन के इस फैसले से ना तो गठबंधन को मजबूत बनाने का इरादा कमजोर पड़ा है और ना ही बर्खास्त न्यायाधीशों की बहाली का प्रण टूटा है। उन्हांेने कहा कि मंत्रिमंडल में पीएमएल-एन के मंत्रियों के इस्तीफे के कारण रिक्त हुए पद भरे नहीं जाएंगे और यह मसला सौहार्दपूर्ण ढंग से परस्पर विश्वास कायम रखते हुए हल किया जाएगा। हालांकि उन्होंने कहा कि वित्त मंत्री का पद यादा दिन तक खाली नहीं रखा जा सकता क्योंकि यह बजट सत्र है और इसमें वित्त मंत्री का होना बेहद जरूरी है। ज्ञातव्य है कि बर्खास्त जजों की बहाली के मुद्दे पर आम राय नहीं बन पाने के कारण नवाज शरीफ की पार्टी ने गठबंधन सरकार से अलग होने का फैसला किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: पीएमएल-एन की वापसी का इंतजार : जरदारी