DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आतंकी मंसूबे

ायपुर बम विस्फोट आतंकवादियों की हताशा और हार का ताजा प्रमाण है। सेना और पुलिस से मात खा चुके संगठन अब मासूम जनता को अपनी हिंसा का शिकार बना रहे हैं। उन्हें किसी भी सूरत में पकड़कर सजा दिया जाना जरूरी है। आतंकवादियों का सामना करने के लिए जनता एकाुट है, इसका प्रमाण है कि मंगल को मंदिर या जुम्मे को मसिद के सामने बम फोड़कर साम्प्रदायिक तनाव फैलाने की साजिश रंग नहीं लाई। मालेगांव, वाराणसी, अजमेर या दिल्ली में आतंकवादी यह हथकंडा अजमाकर मुंह की खा चुके हैं। जनता जानती है कि आतंकवादियों का न तो कोई धर्म होता है और न ही जाति। अच्छा होगा यदि सरकार भी सजग हो जाए और ऐसे मौकों पर प्रतिद्वंद्विता भुलाकर राजनैतिक दल केवल राष्ट्रहित को सवरेपरि महत्व दें। दुख की बात है कि प्रत्येक हमले के बाद ओछी राजनैतिक बयानबाजी शुरू हो जाती है। आतंकवाद का सामना मिलजुलकर ही किया जा सकता है। इस विषय पर आरोप-प्रत्यारोप की राजनीति नहीं की जानी चाहिए। राजस्थान की मुख्यमंत्री ने केन्द्र सरकार पर असहयोग व उपेक्षा का जो आरोप लगाया है, यह उसका समय है। यह घड़ी कंधे से कंधा मिलाकर साथ खड़े होने की है। विस्फोटों का कर्नाटक विधानसभा चुनावों पर कितना असर पड़ेगा, फिलहाल कहना कठिन है। हां, वर्ष के अंत में होने वाले राजस्थान विधानसभा चुनावों में इनकी गूंज अवश्य सुनाई देगी। दुख की बात यह है कि कई माह बीत जाने के बावजूद अजमेर शरीफ में हुए धमाकों का सूत्रधार पकड़ा नहीं जा सका है। यह हमार जांच तंत्र की कमजोरी ही मानी जाएगी।जयपुर बम विस्फोटों के पीछे किस आतंकवादी संगठन का हाथ है, इसका पता तो जांच के बाद ही चलेगा। फिलहाल बंगलादेश स्थित हरकत उल जिहाद-ए- इस्लामी तथा लश्कर व सिमी जसे संगठन शक के घेर में हैं। पड़ोसी देशों में अस्थिर राजनैतिक माहौल का दुष्प्रभाव, सीधे-सीधे हमारी शांति व सुरक्षा पर पड़ता है। लगता है भारत विरोधी शक्तियां वहां जोर पकड़ रही हैं। जयपुर देश की पर्यटक राजधानी मानी जाती है। बम विस्फोट कर सैलानियों को भयभीत करने की भी कोशिश की गई है। आतंकवादियों पर शत-प्रतिशत काबू पाना तो कठिन है, किन्तु खुफिया तंत्र को मजबूत बनाकर तथा जांच एजेंसियों को चुस्त कर ऐसी वारदातों में कमी जरूर की जा सकती है।ड्ढr

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: आतंकी मंसूबे