अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

‘टैलेन्ट सर्च’ अभियान: उम्र हो 35-कांग्रेसी होना जरूरी नहीं

कांग्रस के युवा नेता राहुल गांधी के साथ काम करने के लिए कांग्रसी होना जरूरी नहीं है। चाहे पंचायत एवं स्थानीय निकाय से जीता 35 वर्ष का युवक हो या गैर सरकारी संगठन का ऊर्जावान सदस्य। अगर कांग्रस के संस्कारों के अनुसार चलने का माद्दा है तो वह राहुल गांधी के ‘टैलेन्ट सर्च’ अभियान का हिस्सा बन सकता है। प्रदेश कांग्रस मुख्यालय सदाकत आश्रम में ऐसे युवाओं को गुरुवार को बायोडाटा एवं उम्र का सर्टिफिकेट लेकर पहुंचने का आमंत्रण दिया गया है। युवा कांग्रस के राष्ट्रीय सचिव एवं बिहार प्रभारी नरश शर्मा ने बुधवार को टैलेन्ट सर्च अभियान की तैयारी की अंतिम समीक्षा की।ड्ढr ड्ढr श्री शर्मा ने बताया कि अखिल भारतीय कांग्रस कमेटी के सचिव एवं युवा कांग्रस के राष्ट्रीय प्रभारी सचिव भंवर जीतेन्द्र सिंह, युवा एमपी सचिन पायलट एवं दीपेद्र हुड्डा, युवा कांग्रस के राष्ट्रीय अध्यक्ष अशोक तंवर एवं प्रदेश अध्यक्ष तरुण कुमार साक्षात्कार कमेटी में शामिल होंगे। श्री शर्मा ने स्पष्ट किया कि कांग्रस का प्रतिनिधि होना आवश्यक नहीं है। आवश्यक है कि किसी भी स्तर पर काम करने की ऊर्जा हो और सांगठनिक अनुशासन का ज्ञान। साक्षात्कार में सफल होने के बाद कांग्रस का प्रतिनिधि बन सकता है। वैसे एनएसयूआई, सेवा दल एवं युवा कांग्रस के 35 वर्ष तक के जमीनी नेताओं के चयन पर विशेष नजर है। श्री शर्मा ने कहा कि टैलेन्ट सर्च अभियान के सदस्यों को राष्ट्रीय स्तर पर काम करना होगा। इसे दूसर अर्थो में समझना होगा कि यह एक तरह से प्रदेश के युवा कांग्रसियों के लिए प्रोन्नति है। अभियान का सदस्य बनते ही राष्ट्रीय स्तर पर विशेषकर जिन प्रदेशों में कांग्रस संगठन कमजोर है,वहां काम करने का पूरा अवसर होगा। ऐसी अवस्था में उन्हें अपने अन्दर की प्रतिभा को बाहर निकालने का पूरा अवसर मिलेगा। कांग्रस के भविष्य की फौज के ये सूत्रधार बन सकेंगे।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: ‘टैलेन्ट सर्च’ अभियान: उम्र हो 35-कांग्रेसी होना जरूरी नहीं