DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

.. और डबडबा गईं मुख्यमंत्री की आंखें

वैद्यराज रामलखन वाटिका, कल्याणबिगहा के पास बुधवार को पहुंचते ही मुख्यमंत्री नीतीश कुमार काफी भावुक दिख रहे थे। पिताजी की प्रतिमा पर पुष्पांजलि के बाद स्व. मंजू सिन्हा की स्मृति स्थल पर पुष्प अर्पित करते ही उनकी आंखे डबडबा गईं। मुख्यमंत्री बनने के बाद कल्याणबिगहा में उनका यह चौथा आगमन था। इस बार वे सबसे कम समय दे पाये। वे न तो मीडियार्मियों से मिले और न ही अपने शार्गिदों से। मुख्यमंत्री की एक झलक पाने को ग्रामीण लालायित थे। सुरक्षा व्यवस्था इतनी चाक-चौबंद कि उनकी लालसा पूरी न हो सकी। हालांकि जिला प्रशासन को भी डेढ़-दो घंटे तक यहां सीएम को रूकने की खबर मिली थी। स्व. मंजू सिन्हा की प्रथम पुण्यतिथि पर पुष्प अर्पण के बाद डबडबायी आंखों से आंसू छलक न जाएं, शायद इसी कारण स्मृति स्थल के समीप सामान्य लोगों के लिए लगी कुर्सी पर दो-चार मिनट के लिए मुख्यमंत्री बैठे।ड्ढr ड्ढr इसके बाद पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार प्लस टू विद्यालय तथा 6 बेडों वाला अस्पताल को फीता काटकर शुभारंभ उन्होंने किया। स्व. मंजु सिन्हा के स्थापित अस्थि कलश पर पुष्प अर्पित करने के साथ ही सीएम के पुत्र निशांत की आंखें आंसू नहीं रोक पायीं। मुख्यमंत्री के साथ उनके बड़े भाई सतीश कुमार, शिक्षा मंत्री हरिनारायण सिंह, जदयू के प्रदेश युवाध्यक्ष ई. सुनील कुमार, अस्थावां के विधायक डा. जितेन्द्र कुमार, कवि उदयशंकर शर्मा, प्रदेश नेता डा. विपीन कुमार यादव, वरुण कुमार सिंह, संजयकांत सिंहा, मुन्ना सिद्दीकी, प्रदुमन कुमार, जिप अध्यक्ष मंजु कुमारी, मेयर दिनेश कुमार, एसएसपी अमित कुमार, नालंदा डीएम अनुपम कुमार, एसपी विनीत विनायक समेत अन्य उपस्थित थे।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: .. और डबडबा गईं मुख्यमंत्री की आंखें