अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

72 वकीलोंे को लाइसेंस मिला

चीफ जस्टिस एम कर्पग विनायगम ने कहा कि दक्षता, बुद्धिमता और साहस से ही वकालत में आगे बढ़ा जा सकता है। असफलता से घबराये नहीं, बल्कि लगातार संघर्ष करना चाहिए। वह 14 मई को झारखंड बार कौंसिल के लाइसेंस वितरण समारोह में नये वकीलों को संबोधित कर रहे थे। चीफ जस्टिस ने इन वकीलों को लाइसेंस भी दिया। समारोह में 72 नये वकीलों को लाइसेंस दिया गया। समारोह का संचालन कौंसिल सदस्य दीपक कुमार ने किया। नये वकीलों को शपथ सीनियर वकील और कौंसिल के सदस्य बबन लाल ने दिलायी। स्वागत भाषण कौंसिल के चेयरमैन पीसी त्रिपाठी ने किया। इस अवसर पर कौंसिल के सदस्य महेश तिवारी, एके चतुव्रेदी, एके कश्यप उपस्थित थे।सात साल में नहीं बना कीट विज्ञान कोषांग राष्ट्रीय वेक्टर जनित रोग नियंत्रण कार्यक्रम के तहत कीट विज्ञान कार्य को सुदृढ़ करने के लिए विभिन्न जिलों से आये कीट संग्रहकर्ताओं का प्रशिक्षण कार्यक्रम लोक स्वास्थ्य संस्थान नामकुम में चल रहा है। पांच मई से चल रहे प्रशिक्षण कार्यक्रम में संग्रहकर्ताओं को कई महत्वपूर्ण पहलुओं की जानकारी दी गयी। राज्य कीट विज्ञान वेता एटीएस सिन्हा, डॉ एसके कुलश्रेष्ठ, डॉ आरपी वर्मा, डॉ डीपी तनेजा, डॉ पी बासुकी ने प्रशिक्षण दिया। जानकारी के अनुसार राज्य गठन के सात साल के बाद भी राज्य स्तर पर कीट विज्ञान कोषांग का गठन नहीं हो पाया है। इस कारण राज्य में होने वाले डीडीटी छिड़काव आदि के प्रभाव की जानकारी नहीं मिल पाती है। जबकि सरकार छिड़काव पर करोड़ों खर्च कर रही है। झारखंड हमेशा दिल में रहेगा : चीफ जस्टिसवरीय संवाददाता रांची झारखंड के चीफ जस्टिस एम कर्पग विनायगम ने कहा कि झारखंड हमेशा उनके दिल में रहेगा। यहां काम कर उन्हें काफी अच्छा लगा। वह 14 मई को एडवोकेट एसोसिएशन द्वारा आयोजित विदाई समारोह को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि झारखंड में उन्हें वकीलों एवं सभी का सहयोग मिला। झारखंड में काम कर उन्हें काफी अच्छा लगा। महाधिवक्ता एसबी गाड़ोदिया ने एसोसिएशन की ओर से प्रतीक चिह्न भेंट किया गया। वरीय अधिवक्ता सोहैल अनवर ने भी उन्हें पुस्तक भेंट की। इस अवसर पर हाइकोर्ट के सभी जज और वकील उपस्थित थे। आज अंतिम दिन कोर्ट झारखंड हाइकोर्ट के चीफ जस्टिस एम कर्पग विनायगम 15 को अंतिम कोर्ट करंगे। 16 मई को वह सेवानिवृत्त हो जायेंगे। वह करीब दो साल तक चीफ जस्टिस रहे। इसके पूर्व वह मद्रास हाइकोर्ट में थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: 72 वकीलोंे को लाइसेंस मिला