DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जयपुर में बिजनेस का गिरता ग्राफ

पिंक सिटी के नाम से दुनिया भर में मशहुर जयपुर अभी दो दिन पहले ही धमाकों को शहर बन गया था। शहर में 13 मई को हुए छह सीरियल ब्लास्ट में लगभग 60 लोग मार गए और 150 लोग घायल हो चुके हैं। सुरक्षा के लिहाज से बार को लगभग दस दिनों तक बंद करने की घोषणा तो हो गई , लेकिन बाजार में आई यह मंदी आने वाले दिनों में धीर-धीर अपना रंग दिखाएगी। जाहिर है इस वर्ष जयपुर में भारत और विदेश से आने वाले पर्यटकों की संख्या में भारी कमी आएगी,ािसके कारण वहां का पर्यटक बिजनेस तो बुरी तरह प्रभावित होगा ही, साथ ही साथ पर्यटकों के नहीं आने से स्टील, आभूषण और हस्तशिल्प जसे बिजनेस का ग्राफ भी तेजी से गिरगा। ज्यादातर देशी या विदेशी पर्यटक दिल्ली,आगरा और जयपुर में ही अपनी छुर्टयिां बिताने का प्रोग्राम बनाते हैं। लेकिन धमाकों से दहले जयपुर में शायद ही इस वर्ष कोई अपनी छुर्टयिां मनाना चाहे। जिसके कारण इस वर्ष जयपुर में पर्यटन से होने वाला मुनाफा घाटे में तब्दील होने की उम्मीद है। दूसरी तरफ िपक सिटी के जौहरी बाजार में लगभग 300 विक्रेता रहते हैं, जिनके प्रतिदिन की औसत बिक्री लगभग एक लाख रुपए हैं। दस दिनों की बंदी के कारण उन्हें लगभग 300 करोड़ रुपए का नुकसान झेलना होगा। बाजार में आए इस तरह के घाटे का सीधा असर आने वाले दिनों में आम जन-ाीपन पर दिखाई देगा। बड़े व्यापारी तो शायद रुपए के इन नुकसानों को कुछ हद तक झेल जाए लेकिन छोटे और मझौले किस्म के व्यापारियों की कमर जरुर टूट जाएगी।ड्ढr बम -धमाकों की जांच कर रही एजेंसियों ने राज्य सरकार से शहर में दुबारा इस तरह के हमले होने का अंदेशा जताया है। जिसके कारण सरकार राज्य में सुरक्षा के पूर एतिहात बरत रही है। चूं्कि अब तक किसी भी आतंकी संगठन ने इस घटना की जिम्मेदारी नहीं ली है। जिससे सरकार की चिंता और भी बढ़ गई है। गृह राज्य मंत्री श्रीप्रकाश जायवाल ने एंजेसियों द्वारा की जा रही जांच में हमले के तार विदेशों से जुड़ने की बात भी कही है।ड्ढr धमाकों से दहले जयपुर के लोग खौफादा हैं, दिन-प्रतिदिन बिजनेस का गिरता ग्राफ अनुमानित है कि आने वाले दिनों में और भी तेजी से ही गिरगा। लिहाजा एसे में िपक सिटी में दुबारा गुलाबियत बहाल में समय लगेगा।ड्ढr

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: जयपुर में बिजनेस का गिरता ग्राफ