DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दो कंपनियों ने बिजलीघर लगाने का दिया प्रस्ताव

सूबे में ऊर्जा प्रक्षेत्र में सुधार का ही असर है कि देश की बड़ी कंपनियां बिहार का रुख कर रही हैं। रिलायंस जैसी ख्यात कंपनी के बाद अब ‘कृभको’ और ‘इंडियाबुल्स’ जैसी नामी और बड़ी कंपनियों ने बिहार में बिजलीघर लगाने में दिलचस्पी दिखलाई है। इन कंपनियों ने बिहार सरकार को बिजलीघर लगाने का प्रस्ताव अलग-अलग दिया है। ये कंपनियां एक-एक हजार मेगावाट से अधिक क्षमता के बिजली घर लगाएंगी। दोनों परियोजनाओं में दस हजार करोड़ रुपए से अधिक का निवेश तो होगा ही, दो से तीनहजार लोगों को रोजगार भी मिलेगा।ड्ढr ड्ढr ऊर्जा सचिव राजेश गुप्ता बताते हैं कि ऊर्जा विभाग इनके प्रस्ताव पर गंभीरता से विचार कर रहा है। उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि आने वाले कुछ वर्षो में बिहार बिजली के मामले में आत्मनिर्भर हो जाएगा।राज्य में सूबे में चार नए स्थानों पर बिजलीघर लगाने की संभावनाओं का पता चला है। इन स्थानों को आईएलएफएस ने लंबे परीक्षण के बाद चिह्न्ति किया है। ये जगह लखीसराय, जमुई, बांका और बक्सर हैं। इसके पूर्व राज्य सरकार पीरपैंती और कटिहार में भी बिजलीघर लगाने का सैद्धांतिक निर्णय ले चुकी है। इन जगहों पर दस हजार मेगावाट से अधिक बिजली उत्पादन की संभावना है। राज्य सरकार इन स्थानों पर शीघ्र ही बिजलीघर लगाने की योजना बना रही है। इसके लिए एनटीपीसी के अलावा निजी क्षेत्र के साथ भी कंपनी बनाने की संभावनाओं की तलाश हो रही है।ड्ढr पिछले दिनों राज्य सरकार कोलकाता की बड़ी कंपनी विकास मेटल को बेगूसराय में 500 मेगावाट क्षमता के बिजली घर लगाने पर सहमति दे चुकी है। यह निजी क्षेत्र का पहला बिजलीघर होगा। रिलायंस का बिहार में सौर ऊर्जा संचालित बिजलीघर लगाने का प्रस्ताव अभी विचाराधीन है।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: दो कंपनियों ने बिजलीघर लगाने का दिया प्रस्ताव