अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गाजियाबाद से जुड़े विस्फोटों के तार

ेन्द्रीय गृहमंत्री शिवराज पाटिल ने राजस्थान की राजधानी जयपुर में बम विस्फोटो की घटनाओं में लिप्त आतंकवादियों को शीघ्र पकड़ने का दावा करते हुए गुरुवार को कहा कि इस बारे में सुरक्षा एजेंसियों को महत्वपूर्ण सुराग मिले हैं। इस बीच जयपुर में हुए बम धमाकों की जिम्मेदारी लेने संबंधी ई-मेल गाजियाबाद के एक साइबर कैफे से भेजा गया था। पुलिस ने कैफे के मालिक को गुरुवार को पूछताछ के लिए हिरासत में ले लिया।ड्ढr ड्ढr राजस्थान पुलिस ने मंगलवार को हुए बम विस्फोट की घटनाओं में लिप्त आतंकवादियों के गुरुवार को कम्प्यूटर की मदद से तैयार तीन और स्केच जारी किए। इसके अलावा दिल्ली पुलिस द्वारा मुख्य आरोपी की जारी स्केच से मिलते-ाुलते एक व्यक्ित को पूर्वी दिल्ली से हिरासत में लिया गया है। जिसे पूछताछ हो रही है। राजस्थान पुलिस ने दो समाचार चैनलो को भेजे ई मेल में जयपुर में श्रृंखलाबद्व बम धमाको की जिम्मेदारी लेने वाले आतंकवादी संगठन इंडियन मुजाहिदीन के बारे में छानबीन शुरू कर दी हैं। कांग्रेस और संयुक्त गतिशील गठबंधन की अध्यक्ष सोनिया गांधी तथा केन्द्रीय गृह मंत्री शिवराज पाटिल ने जयपुर में मंगलवार को सिलसिलेवार बम विस्फोटों में घायल हुए लोगों का अस्पताल में जाकर हालचाल पूछा और बम विस्फोट स्थलों का निरीक्षण किया। सोनिया अपने जयपुर दौरे के दौरान मीडिया से दूरी बनाए रहीं और उनके साथ आए केन्द्रीय मंत्री शिवराज पाटिल ने ही मीडिया से बातचीत की। केन्द्रीय मंत्रिमंडल को जयपुर में हुए श्रृंखलाब बम विस्फोटों और उससे उत्पन्न स्थिति से गुरुवार को राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार एमके नारायणन और कैबिनेट सचिव केएम चंद्रशेखर ने अवगत कराया। वित्त मंत्री पी़ चिदंबरम ने कैबिनेट की बैठक के बाद संवाददाताओं को यह जानकारी दी।ड्ढr ड्ढr यह पूछने पर कि बैठक में क्या जानकारी दी गई, चिदंबरम ने कहा कि नारायणन और चंद्रशेखर ने जांच कार्य की प्रगतिके बारे में जानकारी दी। जांच की प्रगति के बारे में पूछे जाने पर वित्त मंत्री न कहा- मैं नहीं मानता कि हम ऐसे स्तर पर पहुंच गए हैं जहां हम कह सकें कि कुछ प्रगति हुई है। राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राज की इस टिप्पणी कि उनका राज्य सांप्रदायिक तनाव फैलन की इजाजत नहीं देगा, चिदंबरम ने कहा कि कानून व्यवस्था कायम करना केन्द्र और राज्य सरकार की समान जिम्मेदारी है।ड्ढr दिल्ली पुलिस (पूर्वी ) के उपायुक्त अजय चौधरी ने बताया कि गोविन्दपुरा से पूछताछ के लिए एक व्यक्ित को हिरासत में लिया गया है मगर अभी तक उसके खिलाफ कुछ पाया नहीं गया है। पूर्वी दिल्ली के गोविन्दपुरा के किसी निवासी ने दिल्ली पुलिस को फोन करके सूचना दी कि अफगान नागरिक जसे लगने वाला एक व्यक्ित यहां रहता है जिसका चेहरा जारी स्केच से मिलता-ाुलता है। इस सूचना पर पुलिस तुरंत मकान संख्या-डी41 पर पहुची, मगर वह बंद पाया गया। बाद में पुलिस ने उसे पूछताछ के लिए थाने पर बुलाया। पुलिस ने बुधवार को विस्फोटों के लिए खरीदी गई साईकिलों के दुकानदारों से पूछताछ कर एक स्केच जारी किया था। गुरुवार को तीन और स्केच जारी किए गए। प्रत्यक्षदर्शियों से पूछताछ के आधार पर कम्पयूटर की मदद से ये स्केच तैयार किए गए है। इधर सूत्रों ने बताया कि रेलवे पुलिस थाने के पास पा*++++++++++++++++++++++++++++र्*ंग में छह दिन से खडी एक जिप्सी के मालिक की भी तलाश की जा रही है। दिल्ली की नम्बरों की इस गाडी में पुलिस को मिले विजिटिंग कार्ड पर लखनऊ के किसी अफजल का नाम लिखा हुआ है।ड्ढr श्री पाटिल ने यहां पत्रकारों को बताया कि केन्द्रीय तथा राज्य सरकार की गुप्तचर एजेन्सियों को विस्फोट के महत्वपूर्ण सुराग हाथ लगे हैं। उन्होने कहा कि विस्फोट में लिप्त आतंकवादियों को शीघ्र ही पकड़ कर जेल का दरवाजा दिखा दिया जाएगा। उन्होंने कहा है कि जयपुर में जिन लोगों ने भी जिस उद्देश्य के लिए सिलसिलेवार विस्फोट किए हैं उनके इराद कभी पूरे नहीं होने दिए जाएंगे। श्री पाटिल ने आतंकवाद से निपटने में राज्य सरकार को हर सम्भव मदद का भरोसा दिलाया। आतंकवाद निरोधक कानून पोटा को फिर लागू करने के बारे में पूछे गए प्रश्न का उन्होने कोई जवाब नहीं दिया। श्री पाटिल तथा श्रीमती गांधी ने सवाई मानसिंह अस्पताल तथा दुर्लभ जी अस्पताल में घायलो का हालचाल पूछा और विस्फोट स्थल का दौरा किया। जयपुर शहर में बम विस्फोटों की घटनाओं के बाद गुरुवार को दूसरे दिन भी सुबह नौ बजे से शाम चार बजे तक कफ्यरू रहा। पुलिस के अनुसार शहर के 15 थाना क्षेत्रों में एहतियातन कफ्यरू लगाया गया है। गुरुवार को कफ्यरू में दो घंटे की ढील दी गई।ड्ढr ड्ढr पुलिस अधिकारियों ने बताया कि गाजियाबाद जिले के साहिबाबाद इलाके में स्थित ‘नवीन कंप्यूटर जॉब’ से ही धमाकों की जिम्मेदारी से संबंधी मेल भेजा गया था। अपने आप को इंडियन मुजाहिदीन बताने वाले गुट ने एक साइकिल का वीडियो भी मेल किया है जिसमें पीछे एक थैला बंधा है। उसने दावा किया है कि यह बम है। कैफे के मालिक मधुकर मिश्र से पुलिस पूछताछ कर रही है। मेल भेजने के लिए ‘गुरु अलहिंदी जयपुर याहू डाट को डाट यूके’ नामक मेल आईडी का प्रयोग किया गया था। गौरतलब है कि पिछले साल 23 नवंबर को बनारस में हुए धमाकों की जिम्मेदारी लेने वाला ई-मेल आईडी भी इससे मिलता जुलता था। पुलिस सूत्रों ने बताया कि एक टी वी चैनल को गाजियाबाद से ई मेल भेजा गया था इसलिए राज्य पुलिस की एक टीम वहां के लिए रवाना की गई हैं। यह टीम उत्तर प्रदेश पुलिस के सहयोग से गाजियाबाद स्थित साइबर कैफे पर पूछताछ करके ई मेल भेजने वाले अपराधियों का पता लगाएगी। बम धमाको के सिलसिले में जांच पडताल के लिए पुलिस टीम उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ ,पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता और मध्यप्रदेश के इंदौर भी गई हैं। इंडियन मुजाहिदीन नामक संगठन द्वारा भेजे गए ई मेल पर अंग्रेजी में गुरू अल हिंदी . के हस्ताक्षर हैं। इसके साथ भेजे ई मेल वीडियों में कोतवाली थाने के बाहर उस स्थान का दृश्य हैं जिसमें विस्फोट से पहले एक साइकिल पर रखा बैग दिखाया गया हैं। चैनल ने इससे पुलिस को अवगत करा दिया हैं। ई मेल में विस्फोट में काम मे ली गई साइकिल के प्रेम के नम्बर की पुष्टि पुलिस ने भी की है। ई मेल में राजस्थान के पर्यटन को नुकसान पहुंचाने का मकसद बताते हुए भारत के सामाजिक आर्थिक ढांचे पर प्रहार की चेतावनी दी गई हैं। अमरीका और ब्रिटेन को भी सावधान रहने को कहा गया हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: गाजियाबाद से जुड़े विस्फोटों के तार