DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

छायाचित्रों में छाया रहा लमही

छायाचित्रों में छाया रहा लमही

लमही महोत्सव के तहत ललित कला विभाग में एक प्रदर्शनी लगाई गई। उद्घाटन साहित्यकार डॉ. मुक्ता और आरपी पांडेय ने किया। विभिन्न छायाचित्रों के माध्यम से प्रेमचंद के चरित्र, गोदान के चरित्र, लमही गांव, पोखरा लमही, प्राइमरी मिडिल स्कूल (पांडेयपुर), मुंशी प्रेमचंद के निवास के मुख्यद्वार का कुंआ और लमही गांव का प्रवेश द्वार अदि दर्शाया गया था। कई अभिलेखों को भी प्रदर्शित किया गया। स्वागत विभागाध्यक्ष प्रो.मंजुला चतुर्वेदी ने किया।

प्रेमचंद आज भी पथ-प्रदर्शक: अग्रसेन कन्या पीजी कॉलेज में बुधवार को ‘प्रेमचंद की प्रासंगिकता' विषयक संगोष्ठी का आयोजन किया गया। मुख्य वक्ता डॉ. रामसुधार सिंह ने कहा कि हिन्दी के ही नहीं सबके हैं। विशिष्ट वक्ता व लेखिक डॉ. नीरजा माधव ने कहा कि प्रेमचंद आज भी पथ-प्रदर्शक है। स्वागत डॉ.मधु अस्थाना ने किया। विषय प्रवर्तन हिन्दी विभाग की अध्यक्ष डॉ. नीलिमा शाह ने किया। संचालन डॉ.अर्चना सिंह ने किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:छायाचित्रों में छाया रहा लमही