DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चोरी और सीनाजोरी

दुनिया के 85 करोड़ लोगों को भरपेट रोटी नहीं मिल रही है, कई मुल्कों में अनाज के लिए दंगे हो रहे हैं, वहीं इस दुनिया में अमेरिका जसा देश भी है जहां कार चलाने के लिए अनाज से पेट्रोल बनाया जा रहा है और पशुओं को गेहूं खिलाया जा रहा है। इस संदर्भ में राष्ट्रपति बुश का यह बयान कि अनाज के वैश्विक संकट के लिए भारत-चीन की मध्यवर्ग की बढ़ती खुराक जिम्मेदार है, पूरी तरह से एक ऊटपटांग व जले पर नमक छिड़कने वाला बयान है। आंकड़े बताते हैं कि एशियाई की तुलना में अमेरिकी 5 गुणा ज्यादा अनाज खपत करते हैं। फिर भारत के प्रति पूर्वाग्रह क्यों?ड्ढr हर्षवर्धन कुमार, गांधी विहार, दिल्लीड्ढr भारतीय प्रमुख संघड्ढr आईपीएल जिसे मेर एक परिचित ‘इंडियन पूंजीवादी लीग’ कहते हैं और मैं भी अंशत: सहमत हूं, आज इतनी महत्वपूर्ण हो चली है कि आप प्रशंसा करं या आलोचना, उपेक्षा तो नहीं कर सकते। (ललित मोदी जी ने क्या दिमाग पाया है!!) सो अपने राम भी कागज काला करने बैठ गए। सोचने ज्यादा लगे, सोचने लगे तो सोचा कि ये ‘आईपीएल क्या चीज है, क्रिकेट क्या है।’ तजरुमा किया तो बना ‘भारतीय प्रमुख संघ’। मैं तो धन्य हो गया कि ‘राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ’ के समानधर्मा और लोग भी हैं। जब एक संघ देश का इतना कल्याण कर चुका है तो देश में दो संघ!! ‘भाप्रसं’ या आईपीएल भी बड़ा स्वयंसेवी संगठन है।ड्ढr नीलाम्बुज सिंह, नई दिल्ली

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: चोरी और सीनाजोरी