DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एकसाथ लागू होगातीव्र बीज विस्तार कार्यक्रम

मुख्यमंत्री तीव्र बीज विस्तार कार्यक्रम को पूर सूबे में एकसाथ लागू करगी राज्य सरकार। इसके लिए राज्य के सभी गांवों में दो-दो किसानों को चिह्न्ति कर उन्हें बीज उपलब्ध कराया जाएगा। इस योजना की सबसे खास बात यह होगी कि किसानों को दिया जाने वाला बीज मूलत: ‘आधार बीज’ होगा और यह बिहार के कृषि फार्मो की अपनी उपज होगी। शुक्रवार को संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कृषि मंत्री नागमणि से कहा कि इस वर्ष खरीफ के लिए सिर्फ धान के बीज दिए जाएंगे जबकि अगले वर्ष गेहूं, चना और मसूर के बीज भी किसानों को उपलब्ध कराये जाएंगे। मंत्री ने कहा कि कृषि रोड मैप में कृषि विकास के लिए विभिन्न कार्यक्रमों में बीज उत्पादन से संबंधित महत्वपूर्ण कार्यक्रम भी शामिल हैं। बीज उत्पादन में प्रमुख फसलों के लिए तैयार क्रैश योजना को कार्यान्वित करने के लिए ही मुख्यमंत्री तीव्र बीज विस्तार कार्यक्रम की शुरूआत की जा रही है।ड्ढr ड्ढr मंत्री ने बताया कि इस योजना के लिए किसानों को प्रशिक्षित भी किया जाएगा। सरकार ने प्रखंडस्तरीय एक दिवसीय किसान प्रशिक्षण सह बीज वितरण का प्रमंडलवार कार्यक्रम भी घोषित किया। इसके तहत 17 मई को पटना, तिरहुत, सारण प्रमंडल और 18 मई को पूर्णिया, भागलपुर और मुंगेर प्रमंडल का चयन किया गया है जबकि 1मई को दरभंगा और मगध प्रमंडल और 20 मई को कोसी में यह शिविर लगाया जाएगा। जिस प्रखंड में राजस्व गांवों की संख्या अधिक होगी वहां प्रशिक्षण सह बीज वितरण कार्यक्रम दो या तीन दिनों तक चलाया जाएगा। कृषि सचिव सी.के. अनिल ने बताया कि इस योजना के लिए सभी 45103 गांवों में नौ हजार किसानों का चयन कर लिया है। उन्हें 6-6 किलो आधार बीज दिए जाएंगे। यह बीज भविष्य में बिहार में कृषि क्रांति का आधार बनेगा।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: एकसाथ लागू होगातीव्र बीज विस्तार कार्यक्रम