DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मैट्रिक की रचिास्ट्रेशन फीस में होगा इचााफा

मैट्रिक के पंजीकरण शुल्क में दोगुणा बढ़ोत्तरी होगी। बिहार विद्यालय परीक्षा समिति ने मैट्रिक स्तर पर एकीकृत पंजीकरण के प्रस्ताव पर विचार करना शुरू कर दिया है। समिति का कहना है कि एकीकृत पंजीयन व्यवस्था से छात्रों को तो काफी लाभ होगा लेकिन समिति को भारी आर्थिक नुकसान उठाना पड़ेगा। इसको देखते हुए मैट्रिक व इंटर स्तर पर रािस्ट्रेशन शुल्क में पुनरीक्षण का प्रस्ताव तैयार किया गया है।ड्ढr ड्ढr समिति सूत्रों की मानें तो अभी मैट्रिक के छात्रों को जितना पंजीकरण शुल्क लगता है उसका लगभग दोगुणा करने की तैयारी चल रही है। अभी छात्रों को मैट्रिक में पंजीकरण कराने के लिए शुल्क 0 रुपये लगता है जबकि फार्म की कीमत 15 रुपये है। वहीं इंटर पंजीकरण कराने में लगभग 275 रुपये लगते हैं। अब एक साथ दोनों का रािस्ट्रेशन कराने के प्रस्ताव को समिति बोर्ड की मंजूरी मिलने के बाद परीक्षा समिति के समक्ष परशानी खड़ी हो गयी है। इससे समिति को भारी आर्थिक क्षति उठानी पड़ेगी। इसको देखते हुए समिति द्वारा बीच का रास्ता खोजा जा रहा है। समिति सूत्रों का कहना है कि मैट्रिक व इंटर दोनों का पंजीकरण कराने में छात्रों को लगभग 400 रुपये लगते हैं।ड्ढr ड्ढr अब एक बार रािस्ट्रेशन कराने पर लगभग 200 रुपये शुल्क रखे जाने की योजना है। साथ ही दूसर बोर्ड से प्लस टू स्तर पर नामांकन कराने वाले छात्रों को पंजीकरण कराने के लिए भी परिवर्तित शुल्क निर्धारित किया जाएगा। परीक्षा समिति के अध्यक्ष डा. एकेपी यादव का कहना है कि छात्रों की सुविधा को ध्यान में रखते हुए एकीकृत पंजीकरण मैट्रिक स्तर पर कराने का निर्णय लिया गया है जो प्लस टू स्तर पर भी लागू रहेगा। वहीं सचिव अनूप कुमार सिन्हा का कहना है कि छात्रों को सहूलियत देने व समिति को अधिक आर्थिक क्षति नहीं होने देने पर विचार किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि मैट्रिक व इंटर स्तर पर लगने वाले पंजीयन शुल्क की लगभग आधी राशि ही बतौर शुल्क ली जाएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: मैट्रिक की रचिास्ट्रेशन फीस में होगा इचााफा