DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

समय पर धान नहीं कुटवाने से करोड़ो रुपये का नुकसान: कैग

नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (कैग) ने कहा है कि पंजाब राज्य नागरिक आपूर्ति निगम निर्धारित समय सीमा के भीतर धान कुटवाने में विफल रहा जिसके चलते 1,432.28 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ।

सार्वजनिक उपक्रमों पर अपनी ताजा रिपोर्ट में कैग ने कहा कि फसल वर्ष 2008-2013 के दौरान 98.09 लाख टन चावल की आपूर्ति की जानी थी, लेकिन मिलों ने केवल 95.76 लाख टन की आपूर्ति की जिससे 2.33 लाख टन का अंतर रहा।

राज्य सरकार की कस्टम मिलिंग पालिसी के तहत चावल मिलों को एक निर्धारित समय सीमा के भीतर एफसीआई को चावल की आपूर्ति करनी आवश्यक है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:समय पर धान नहीं कुटवाने से करोड़ो रुपये का नुकसान: कैग