DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ऐश्वर्या संग जमादारिनों का जलवा

अलवर की 54 महिलाएं अगले महीने न्यूयार्क स्थित संयुक्त राष्ट्र महा सभा की रैम्प पर अपना जलवा बिखेरंगी। अंतरराष्ट्रीय कार्यक्रम में भाग लेने वाली ये महिलायें हाल तक मैला ढोती थी। दो जुलाई को होने वाले उक्त कार्यक्रम का आयोजन सुलभ इंटरनेशनल और संयुक्त राष्ट्र द्वारा संयुक्त रूप से किया गया है। संयुक्त राष्ट्र ने 2008 को सैनिटेशन वर्ष घोषित किया है, इसलिए सैनिटेशन में सबसे बड़ी भूमिका निभाने वाली जमात की प्रतिनिधियों को यह सम्मान दिया जा रहा है। वैसे, भारतीय समाज में सामाजिक भेदभाव और उपेक्षा का सामना करने वाली इन महिलाओं की जिंदगी में वह एक नया चैप्टर तब ही लिख दिया गया था जब हाल ही में वे भारत सुन्दरी युक्ता मुखी के साथ दिल्ली में रैम्प पर उतरीं। जमादारिनों को समाज में सम्मान देने के लिए संयुक्त राष्ट्र महासभा के कार्यक्रम में दुनिया के 150 देशों के मंत्री और अधिकारियों के साथ 2007 में मिस वर्ल्ड रह चुकी रियो मोरी, ब्रिटेन की एक्ट्रेस हिलेरी स्वांग, भारत की फिल्मी अदाकारा ऐश्वर्या राय के अलावा बिल गेट्स और उनकी पत्नी मेलिंडा गेट्स भी शामिल होंगे। कार्यक्रम में इन महिलाओं के अतीत, वर्तमान और उनकी जीवनी पर आधारित पुस्तक ‘प्रिंसेज ऑफ अलवर’ का भी विमोचन होगा। सुलभ इंटरनेशनल के अध्यक्ष डा.बिन्देश्वर पाठक ने बताया कि खानदानी तौर पर मैला ढोने को अभिशप्त इन महिलाओं को उनके पुश्तैनी पेशे से मुक्त करा दिया गया है। अब उनके सिर पर मैले की टोकरी नहीं दिखती। व्यावसायिक प्रशिक्षण उपलब्ध करा कर सुलभ इंटरनेशनल ने उनकी जीवन शैली बदल दी है। नई जिन्दगी जी रही ये महिलायें आज सिलाई-बुनाई के अलावा छोटे -मोटे धंधे कर रही हैं।ड्ढr अमेरिका की यात्रा पर जाने से पहले जमादारिनों को पटना की हवाई सैर कराई गई ताकि लंबी यात्रा के दौरान वे असहा महसूस नहीं कर सकें। उन्हें पांच सितारा होटल में ठहराया गया। ए.पी.जे.अब्दुल कलाम और हॉलैंड में आरां काउंटी के राजकुमार विलियम एलेक्ोंडर के साथ मंच पर बिठा कर उन्हें समाज की मुख्यघारा में शामिल होने का एहसास कराया जा चुका है।ड्ढr

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: ऐश्वर्या संग जमादारिनों का जलवा