DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राजरंग

सरदार ने एक बार फिर से कुरसी संभाल ली है। अब तो सभी को सरंडर करना होगा। सरदार किसी को नहीं छोड़ेगा। बहुत दिनों तक अकेले एसी की ठंडी हवा खाता रहा है। अब तो उसे जगह और जिम्मेदारी दोनों सौंपी गयी है। वह भी प्रदेश के विकास की। विकास का मुखिया होने के नाते अब तो वह सभी को एक ही डंडे से हांकेगा। कड़क मिजाजी मुखिया जी को सिर्फ रिाल्ट चाहिए। कैसे दीजिएगा, आप जानिये। समय पर काम और नतीजा नहीं मिला, तो उल्टा टांग देंगे। अशोक वृक्ष के समान सालों भर हर-भर रहनेवाले मुखिया जी सिंह की तरह गर्जना भले ही नहीं करते हैं पर उनकी धीमी आवाज ही अच्छे-अच्छों की बोलती बंद कर देती है। उस पर से जब सभी विभागों के विकास की जिम्मेदारी है, तो डंडा सभी पर चलेगा ही। यह दीगर बात है कि किसी को जोर से लगेगा, तो किसी को धीर से। पर लगेगा जरूर। आखिर मुखिया जी को भी सरकार के पास जवाब देना है। इसलिए संभल जाओ भइये, कुछ काम करो, कुछ काम करो.. झारखंड में रहकर कुछ नाम करो। नहीं करने पर सरदार कहियो भरी सभा में पूछ सकता है, तेरा क्या होगा कालिया..? फिर आगे क्या होगा अभिये से सोच लीजिए!

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: राजरंग